कोरोना से मृत कर्मचारियों के परिजनों को भी मिले आर्थिक सहायता - मंगलमूर्ति

कोरोना से मृत कर्मचारियों के परिजनों को भी मिले आर्थिक सहायता - मंगलमूर्ति

कोरोना से मृत कर्मचारियों के परिजनों को भी मिले आर्थिक सहायता - मंगलमूर्ति




छुरा:- छग प्रदेश की खराब आर्थिक स्थिति का हवाला देकर सरकार ने कर्मचारियों की लंबित मांगे केन्द्रीय कर्मचारियों के समान महंगाई भत्ता पर अनावश्यक रोक लगा रखी है वहीं घोषणा पत्र में किए वादे वेतन विसंगति दूर कर समयमान,क्रमोन्नति, पुरानी पेंशन को टालते नजर आ रही है।हाल में उत्तर प्रदेश पीड़ितों को मरहम के नाम पर 50-50 लाख देने की घोषणा कर रही है जो कि कर्मचारी हितों पर कुठाराघात है।छग विद्यालयीन शिक्षक कर्मचारी संघ जिला गरियाबंद के जिलाध्यक्ष मंगलमूर्ति के अनुसार कोरोना संकट के दौरान फ्रंटलाइन वर्कर के रूप में कार्यरत कर्मचारियों के लिए सुरक्षा बीमा की मांग बार-बार की गई परंतु शासन ने इस संबंध में कोई पहल नहीं की वहीं अकाल मृत्यु के गाल में समाने वाले कर्मचारियों के परिजनों के लिए भी कोई खास संवेदनशीलता भी नहीं दिखाई।




सरकार को कर्मचारियों से किया वादा पूरा करते हुए मृतक कर्मचारियों के आश्रित परिजनों को बड़ी आर्थिक सहायता प्रदान करना चाहिए।संगठन के जिला कोषाध्यक्ष उत्तम पटेल,वि खं छुरा अध्यक्ष कन्हैयालाल, उपाध्यक्ष गौकरण बंजारे, चिरंजीव साहू, बेदराम पटेल, टेप कुमार, रेणुका देवांगन, प्रीति,लीलावती, धनेश्वरी सहित समस्त सदस्यों को प्रदेश में 1998 से एक ही पद पर कार्यरत और अबतक पदोन्नति क्रमोन्नति से वंचित सहायक शिक्षकों को सरकार के वादा पुरा करने की प्रतीक्षा है।