इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामीनाथ जायसवाल का 1 सितंबर को गणेश तिवारी के जन्मदिन पर होगा कांकेर आगमन

इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामीनाथ जायसवाल का 1 सितंबर को गणेश तिवारी के जन्मदिन पर होगा कांकेर आगमन

इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामीनाथ जायसवाल का 1 सितंबर को गणेश तिवारी के जन्मदिन पर होगा कांकेर आगमन


कांकेर। इंटक के राष्ट्रीय सचिव और प्रवक्ता गणेश तिवारी का 1 सितंबर को जन्मदिन है। इस अवसर पर राष्ट्रीय स्तर के बड़े राजनीतिक चेहरे और कलाकारों का आगमन होना है। इसी कड़ी में इंटक के राष्ट्रीय सचिव और छत्तीसगढ़ प्रभारी अशोक साहू ने जानकारी देते हुए बताया कि इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामीनाथ जायसवाल भी 1 सितंबर को गणेश तिवारी के जन्मदिन के अवसर पर कांकेर पधारेंगे। उनके साथ ही इंटक की राष्ट्रीय सचिव पर्सिस मोनालिसा का भी आगमन होगा।


गणेश तिवारी के जन्मदिन पर स्वामीनाथ जायसवाल के साथ-साथ कांग्रेस के बड़े व  वरिष्ठ नेताओं के आगमन की भी संभावना है। गणेश तिवारी ने स्वयं स्वामीनाथ जायसवाल व कांग्रेस एवं इंटक के बड़े नेताओं को निमंत्रण भेजा था। जिसमें स्वामीनाथ जायसवाल ने उनके निमंत्रण को स्वीकार करते हुए हवाई मार्ग के माध्यम से दिल्ली से कांकेर पहुंचेंगे। इसके अलावा छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध गायक दिलीप षड़ंगी का भी उनके जन्मदिन पर कांकेर आगमन होगा और वे इस अवसर पर अपने सुरीले गीतों की मधुर छटा बिखेरेंगे।


गणेश तिवारी ने कहा है कि वे बहुत ही खुश हैं कि राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामीनाथ जायसवाल जी ने उनके निमंत्रण को स्वीकार कर कांकेर आने की बात कही है। साथ ही छत्तीसगढ़ में संगीत के महारथी व सुप्रसिद्ध गायक दिलीप षड़ंगी जी भी उपस्थित रहेंगे। गणेश तिवारी ने कहा कि स्वामीनाथ जायसवाल जी एक जमीन से जुड़े हुए नेता हैं जो हर कार्यकर्ता के साथ मिलजुलकर रहते हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी नाथ जायसवाल जी का पहचान एक कर्मठ मजदूर नेता जो हमेशा मजदूरों और श्रमिकों में गरीबों की हित की लड़ाई लड़ते हुए 1990 से सक्रिय कांग्रेस की राजनीति से जुड़े हुए हैं एनएसयूआई युवा कांग्रेस कांग्रेस पिछड़ा वर्ग सभी वर्ग के पार्टी के संगठनों में काम करते हुए मजदूर यूनियन के क्षेत्र में विगत 10 वर्षों से सक्रिय होकर मजदूरों श्रमिकों और गरीबों की आवाज बन आज राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में जो कार्य कर रहे हैं वह एक देश में मिसाल कायम हुआ है उनके नेतृत्व में संगठन को मजबूती मिली है कोरोना वायरस जैसे महामारी में लड़कर सभी मजदूरों श्रमिकों की आवाज बनकर जायसवाल जी ने हमेशा कार्यकर्ताओं के मनोबल को बढ़ाया और सब को जागरूक किया है कि गरीबों और मजदूरों श्रमिकों एवम् प्रवासी मजदूरों का मदद करें उनकी जितना प्रशंसा की जाए वह कम है वह अपनी क्षमता से ऊपर बढ़कर सबका सहयोग सबका मदद कांग्रेस के एक निष्ठावान कार्यकर्ता के रूप में अपना पहचान पूरे देश में बनाए हैं उनकी विचारधाराओं से प्रेरित होकर सारे संगठन के पदाधिकारी तो उनके साथ  हैं लेकिन और कांग्रेस के अन्य पदाधिकारियों को एक शक्ति मिलता है ऐसे नेता जो राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटक के अध्यक्ष पद पर आसीन हैं हमे गर्व है अपने नेता पर एक सामान्य से कार्यकर्ता के आग्रह पर कांकेर आने के लिए अपनी सहमति दी यह उनके सरल व्यवहार को स्पष्ट करता है और यह परिलक्षित करता है कि वे हर कार्यकर्ता को अपने परिवार का सदस्य मानते हैं।


उन्होंने आजीवन एक जननेता के रूप में गरीब, दलित, पिछड़े, माजदूर, श्रमिक व जरूरतमंद लोगों की सहायता करते आए हैं। उन्होंने हमेशा किसानों व श्रमिकों के हित के लिए कई आंदोलन किये और उनके हितों के लिए मुखरता से आवाज बुलंद करते हुए जनांदोलन किये हैं। हमें बहुत ही गर्व है कि एक जमीन से जुड़े नेता हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं जो हर सुख-दुख में संगठन के कार्यकर्ताओं के साथ खड़े रहते हैं।


गणेश तिवारी ने आगे जानकारी देते हुए कहा कि मेरे जन्मदिन के अवसर पर छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध गायक दिलीप षड़ंगी जी का भी आगमन हो रहा है जिससे मैं बहुत ही हर्षित हूँ। दिलीप षडंगी जी ने छत्तीसगढ़ में संगीत के क्षेत्र में कई अहम योगदान दिया है। उन्होंने छत्तीसगढ़ी संगीत को एक नया मुकाम दिया है और विश्व पटल पर छत्तीसगढ़ की लोक संगीत को एक मंच दिया है। आज देश ही नही बल्कि विदेशों में भी छत्तीसगढ़ी संगीत अपनी एक अलग पहचान स्थापित कर चुका है जिसमें दिलीप षड़ंगी जी का भी विशेष योगदान है।


"का साबुन चुपरथस गोरी" और "आमा पान के पतरी" जैसे गाने लिखने और गाने वाले गीतकार दिलीप षडंगी जी ने छत्तीसगढ़ में संगीत को एक पायदान और ऊपर ले जाने में एक अमूल्य योगदान दिया है। इन दोनों महान हस्तियों के आगमन की खबर से इंटक व कांग्रेस के सदस्यों के साथ साथ कांकेर क्षेत्र के श्रमिक, मजदूर, किसान और जनता में उत्सुकता बनी हुई है।