शाला प्रबंधन समिति का पुनर्गठन

शाला प्रबंधन समिति का पुनर्गठन

शाला प्रबंधन समिति का पुनर्गठन




छुरा- जनपद पंचायत छुरा अन्तर्गत ग्राम मड़ेली में स्कूल व स्कूल समिति के द्वारा बैठक आयोजित किया गया जिसमे प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय के लिए शाला विकास एवं प्रबंधन समिति द्वारा पुनर्गठन किया गया। स्कूलो में विद्यार्थियों के अभिभावकों, पंचायत प्रतिनिधिमंडल एवं ग्रामप्रमुखों को समिति के गठन में सहभागिता के लिए आमंत्रित किया गया। 

     इसमेंं माध्यमिक स्कूल के प्रबंधन समिति के *अध्यक्ष-* श्रीमती मीरा ठाकुर, *उपाध्यक्ष-* श्री गोवर्धन ठाकुर, *शिक्षाविद-* किशन नंदे, *पंचायत प्रतिनिधि-* भीखम सिंह ठाकुर उपसरपंच, *सचिव-* श्री एच. आर. साहू, *कोषाध्यक्ष-* चमन लाल साहू, एवं मनहरण सिन्हा, यशवंत ध्रुव, गुमान ठाकुर,निर्मला बाई ध्रुव, चंद्रिका बाई साहू, कमलेश्वरी ठाकुर, यशोदा ठाकुर,सोहद्रा बाई सागर को सदस्य बनाया गया। एवं प्राथमिक शाला के प्रबंधन समिति के अध्यक्ष- श्री मिथलेश साहू, उपाध्यक्ष- केशर साहू, शिक्षाविद- भंगी राम नेताम, पंचायत प्रतिनिधि- रुखमणी बाई ठाकुर,। सचिव- के एस यदु, कोषाध्यक्ष-टायलसिंह पटेल  बनाए गए।

   जिला शिक्षा पदाधिकारी ने सभी शासकीय प्राथमिक व माध्यमिक शालाओं में शाला प्रबंधन समिति का पुनर्गठन किये जाने निर्देश जारी किए। आदेश आने के तुरंत बाद ग्राम मड़ेली के प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय में शाला प्रबंधन समिति गठन किया गया।

 संचालक श्री एच.आर. साहू(प्रधान पाठक मिडिल स्कूल मड़ेली) ने कहा कि शिक्षा का बेहतर प्रबंधन एवं शैक्षिक गतिविधियों के क्रियान्वयन के लिए शाला प्रबंधन समितियों का गठन किया जाता है।ये समितियां बच्चों के शालाओं में नामांकन, नियमित उपस्थिति, गुणवत्तायुक्त शिक्षा और अधोसंरचनात्मक कार्यो के साथ बच्चों के बहुआयामी विकास में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है।साथ ही प्रबंधन समिति स्कूल संचालन की हर गतिविधि पर नजर रखती है इसमें शिक्षकों की समय पर उपस्थिति कराना, स्कूल भवन निर्माण कार्य की मानिटरिग,स्कूल में राइट- टू एजुकेशन के साथ ही सरकार की ओर से संचालित हो रही योजनाओं को पूरा कराने जैसे महत्वपूर्ण कार्यों की जिम्मेवारी भी है।

 प्राथमिक शाला मड़ेली के प्रधान पाठक श्री के. एस. सिंह यदु ने कहा कि प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों में गठित होने वाली समितियों का कार्यकाल एक साल के लिए निर्धारित है। कोरोना काल के कारण पिछले साल नहीं होने के कारण इस वर्ष किया जा रहा है। शाला प्रबंधन समिति में शाला में अध्ययनरत् बच्चों के पालक, शाला के प्रधान शिक्षक, वरिष्ठ महिला शिक्षिका तथा स्थानीय सरपंच/उपसरपंच,/वार्ड पंच/ग्राम के वरिष्ठ नागरिक शामिल रहते हैं।इन समितियों के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष का चयन विद्यार्थियों के अभिभावकों में से किया जाता है। वहीं शाला प्रधान शिक्षक समिति के सदस्य सचिव होते हैं। शासन द्वारा शाला के स्थानीय प्रबंधन के अधिकार भी इन समितियों को सौंपे गए है। इस दौरान- श्रीमती लक्ष्मी ठाकुर (सरपंच), श्रीमति मीरा ठाकुर (पूर्व ज. पं.अध्यक्ष), रुखमणी ठाकुर, गौरी बाई ठाकुर ,प्रिती बाई सतनामी, यशोदा ठाकुर,केशरी बाई ध्रुव, श्री भीखम सिंह ठाकुर (उपसरपंच), श्री भूषण ठाकुर(ग्रामीण अध्यक्ष), भंगी राम नेताम(ग्रा.सचिव),     तेजराम                     ‌‌             निर्मलकर(ग्रा.सहसचिव),

वेशनारायण ठाकुर,किशन नंदे, यशवंत ध्रुव, मनहरण सिन्हा,लाल जी सिन्हा, जीवन टाण्डे,रामचरण ठाकुर, गोवर्धन ठाकुर,बिसहत निर्मलकर आदि शाला प्रबंधन समिति बैठक में उपस्थित रहे।