लक्ष्य कोचिंग के छात्र-छात्राओं ने कंपटीशन के हर क्षेत्र के साथ-साथ जवाहर नवोदय प्रवेश परीक्षा में भी मारी बाजी

लक्ष्य कोचिंग के छात्र-छात्राओं ने कंपटीशन के हर क्षेत्र के साथ-साथ जवाहर नवोदय प्रवेश परीक्षा में भी मारी बाजी

लक्ष्य कोचिंग के छात्र-छात्राओं ने कंपटीशन के हर क्षेत्र के साथ-साथ जवाहर नवोदय प्रवेश परीक्षा में भी मारी बाजी 



रोहित यादव/बलरामपुर :-जिले के शंकरगढ़ विकासखंड में संचालित लक्ष्य कोचिंग सेंटर जो अब और अत्याधुनिक सुविधा से सुसज्जित हो चुका है लक्ष्य कोचिंग के शिक्षक श्री सुदर्शन यादव जी अब बच्चों के भविष्य का मसीहा बन गए हैं विगत 5 वर्षों में लगभग  340 बच्चों को प्रदेश व प्रदेश के बाहर शिक्षा प्राप्त करने हेतु बेहतरीन शिक्षण संस्थान जैसे सैनिक स्कूल जवाहर नवोदय विद्यालय प्रयास आवासीय विद्यालय एकलव्य आवासीय विद्यालय उत्कर्ष जवाहर नवोदय विद्यालय तथा बीएचयू विश्वविद्यालय में प्रवेश दिलाकर बच्चों का भविष्य संवार रहे हैं यह कोचिंग सेंटर इतना प्रभावशाली है कि शहरों की तर्ज पर यहां भी स्मार्ट क्लास की सुविधा उपलब्ध है विगत 2 वर्षों में जहां पूरा विश्व कोविड-19 के चपेट में रहा व सभी प्रकार के शिक्षण संस्थान बंद हो गए मानव का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया वहीं लक्ष्य शिक्षण संस्थान के शिक्षक सुदर्शन यादव ने अपने सभी बच्चों को ऑनलाइन ऑफलाइन मोहल्ला क्लास के माध्यम से 6 से 8 घंटे की कक्षाएं लगातार मोहल्ला क्लास के रूप में संचालित रही जिसके परिणाम स्वरूप सैनिक स्कूल प्रवेश परीक्षा में 9 छात्रों ने प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय में 17 बच्चों ने प्रवेश प्राप्त किया अभी अभी जवाहर नवोदय विद्यालय का परिणाम जारी हुआ जिसमें 10 बच्चों ने प्रवेश प्राप्त किया बच्चों के नाम इस प्रकार है अनुष्का राव सूरज शर्मा रूपा यादव वसुंधरा परी यादव साक्षी सिंह पारसनाथ नैतिक आदित्य लकरा अजय पैकरा तरुण कुमार सिंह ने जवाहर नवोदय विद्यालय प्रवेश परीक्षा में लक्ष्य कोचिंग का परचम लहराया आपको बताते चलें कि  रिशु अग्रवाल पिता मनोज अग्रवाल एशिया के टॉप 10 विश्वविद्यालय में गिने जाने वाले विश्वविद्यालय बीएचयू बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में प्रवेश प्राप्त कर शंकरगढ़ विकासखंड के साथ-साथ पूरे छत्तीसगढ़ राज्य का नाम रोशन किया है लक्ष्य शिक्षण संस्थान के शिक्षक श्री सुदर्शन यादव ने सभी बच्चों को हार्दिक शुभकामनाओं के साथ साथ उज्जवल भविष्य की कामना की है श्री सुदर्शन यादव ने बातचीत के दौरान बताया कि वह शिक्षण संस्थान में गरीब अनाथ व दिव्यांग बच्चों को निशुल्क शिक्षा प्रदान करते हैं तथा आर्थिक रूप से पिछड़े प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को भी निशुल्क शिक्षा उनकी रूचि के आधार पर प्रदान करते हैं