छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज पंजीयन क्रमांक 4230 के तहत ब्लॉक के नयें पदाधिकारियों की नियुक्ति हुई संपन्न

छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज पंजीयन क्रमांक 4230 के तहत ब्लॉक के नयें पदाधिकारियों की नियुक्ति हुई संपन्न

छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज पंजीयन क्रमांक 4230 के तहत ब्लॉक के नयें पदाधिकारियों की नियुक्ति हुई संपन्न




बलीराम मौर्य/बस्तर-छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज पंजीयन क्र.4230 के तहत जिला बस्तर के पदाधिकारी के निर्देशानुसार 19 अक्टूबर को विकासखंड बस्तर का नया पदाधिकारियों की नियुक्ति की गई सर्व आदिवासी समाज का गठन कार्यक्रम बस्तर मंडी प्रांगण में आयोजन किया गया जिसमें  पदाधिकारियों को सर्व सहमति से उक्त पदाधिकारीयों का चयन किया गया जिसमें बस्तर ब्लॉक अध्यक्ष नकछेड़ी कश्यप ,उपाध्यक्ष झुलकूराम  मंडावी,सचिव रमेश बघेल  राधेलाल ठाकुर सह सचिव बलराम कश्यप महिला प्रभाग से बस्तर ब्लॉक अध्यक्ष श्रीमती पीली कश्यप बस्तर ब्लॉक संरक्षक उदबो राम नाग युवा प्रभाग से बस्तर ब्लॉक अध्यक्ष भागीरथी मौर्य उपाध्यक्ष पूरन सिंह मौर्य चैबन कश्यप सचिव तुलाराम कश्यप सह सचिव शंभू नाथ कश्यप  इस विकास खंड स्तरीय गठन कार्यक्रम में उपस्थित जिला  पदाधिकारीगण के समक्ष गठन कार्यक्रम संपन्न हुआ इस मौके पर उपस्थित छत्तीसगढ़ प्रांतीय उपाध्यक्ष राजाराम तोड़ेम ने अपने संबोधन में समाज की भलाई रूपरेखा को उक्त बैठक में रखा तोडेम जी ने कहा की, कुछ अपने ही समाज के असामाजिक तत्व के लोग आदिवासी समाज के अनेक त्योहारों और धार्मिक आस्था केंद्रों को टारगेट बनाकर समाज में गुमराह कर जहर घोलने का काम और समाज को तोड़ने का काम कर रहे हैं ऐसे लोगों से दूर रहने को कहा, उसके पश्चात जिला अध्यक्ष दशरथ कश्यप ने अपने संबोधन में कहां समाज की रीति रिवाज विधि विधान  अवगत कराते हुए समाज की अनेक विषयो पर  जानकारी उक्त बैठक में रखी और कश्यप जी ने कहा की जल ,जंगल ,जमीन को मानव जीवन का आधार आगे वाला पीढ़ियों के लिए बचाएं और संरक्षित करें और आदिवासियों की जमीन पर गलत तरीके से काबीज करने वालों के ऊपर शासन प्रशासन से मांग कर ऐसे लोगों के ऊपर कड़ी से कड़ी कार्यवाही के विषय में भी चर्चा किया गया और आदिवासी समाज की धार्मिक आस्था केंद्रों संरक्षक हेतु कश्यप ने कहा आदिवासी समाज ऐसा समाज है जो  33 कोटी देवी देवताओं को पूजा अर्चना करने वाला समाज हैं और हमारे कई हजारों सालों से चली आ रही पूर्वजों की देन है और यहां हजारों साल से चली आ रही है परंपरा को ना भूलने कहा जिस प्रकार से भगवान महादेव को बूढ़ा देव के रूप में पूछते हैं और दुर्गा के अनेक स्वरूपों गांव की छोटी-छोटी गुड़ियों के रूप में अनेक माताओं के नामों से पूजा अर्चना कई हजारों साल से करते आ रहे हैं इसे आगे पीढ़ियों के लिए संरक्षित करने को भी कहा, और कुछ असामाजिक तत्वों के लोगों के द्वारा भ्रमित करने वाले  से बचने को कहा,

पश्चात जिला उपाध्यक्ष महेश कश्यप अपने समाज की अनेक गतीविधियों एवं संविधान की धाराएं एवं उप धाराएं धाराओं की विस्तृत जानकारी समाज की बैठक में प्रस्तुत की,और महेश कश्यप ने  कहा की  कुछ लोग आरक्षण और संविधान के नाम पर छोटे-छोटे ग्रामीण क्षेत्रों में जो लोग संविधान और आरक्षण के नाम से लोगों को बहला-फुसलाकर गलत जानकारी देते हैं ऐसे लोगों से बचने को कहा और ऐसे लोगों के ऊपर खड़ी से खड़ी कार्यवाही करने को कहा, और समाज की अनेक धार्मिक आस्था केंद्रों को संरक्षण हेतु कश्यप ने कहा की बस्तर की आराध्य देवी दुर्गा स्वरूप मां दंतेश्वरी ,ढोल काल में स्थित गणेश जी की मूर्ति प्रतिमा बारसूर मैं स्थित की गणेश जी का मूर्ति नारायण पाल की भगवान विष्णु जी का  मंदिर और गांवों में स्थित गुड़ी अनेक धार्मिक आस्था केंद्रों को आदिवासी समाज का मुख्य धार्मिक आस्था केंद्र बताया और कश्यप ने कहा की यह हमारे हजारों सालों से निवास करने वाले हमारे पूर्वजों का देन  है इसे खंडित होने से आगे की पीढ़ियों के लिए बचाने को कहा और इसे ना भूलने को कहा, और कश्यप जी ने कहा की ऐसे धार्मिक आस्था केंद्रों और बस्तर की आराध्य देवी के ऊपर प्रश्न चिन्ह उठाने वालों के ऊपर और समाज को गुमराह कर धार्मिक आस्थाओं से वंचित करने वाले लोगों के ऊपर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करने के विषय में भी चर्चा किया गया ऐसे लोगों के ऊपर बख्शा नहीं जाएगा 

जिसमें उपस्थित ,हुए जिला सचिव निल कुमार बघेल, सह सचिव रमेश कुमार कश्यप ,जिला कोषाध्यक्ष अरुण कुमार नेताम युवा प्रभाग जिला अध्यक्ष रवि कश्यप जिला संरक्षक  के .एम. साहनी ने , गणेशराम बघेल हेमराज ,लखन कश्यप, चमरा राम ,जयदेव नाग, सोनारू राम शोभाराम बघेल, हिडमो राम मंडावी, बलिराम ,सुखराम बघेल श्रीमती भारती बघेल ,नील कुमारी बघेल ,श्रीमती बसंती बघेल, कौशल्या ध्रुव ,धनेश्वर नाग, ईश्वर मंडावी आशीष कुमार ,प्रेमनाथ बघेल मदन राम बघेल ,जदू बघेल, चंद्रू राम बघेल ,बबलू राम कश्यप गोपाल ,जग्गेश बघेल ,सुखदेव मंडावी, मानसाय बघेल अन्य समाज प्रमुख एवं कई गांव से सदस्य मौजूद रहेl