*निर्धन बच्चों को स्कूल में युवा संगठन के सहयोग से मिला प्रवेश

*निर्धन बच्चों को स्कूल में युवा संगठन के सहयोग से मिला प्रवेश

*निर्धन बच्चों को स्कूल में युवा संगठन के सहयोग से मिला प्रवेश*

------------------------------------

 मस्तुरी- ( ओमप्रकाश साहू)- जिला बिलासपुर जनपद पंचायत मस्तुरी के ग्राम कुली में निर्धन परिवार के बच्चे जो कि  पिछले वर्ष से कोरोना महामारी के कारण कक्षा 9वी में प्रवेश नहीं लिया था एवं ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता नहीं हैं जो कि शिक्षा की मुख्यधारा से टूट चुके थे और गांव में घूम रहे थे ऐसे बच्चों की जानकारी युवा संगठन को हुई तब संगठन के द्वारा तत्काल इसे संज्ञान लेते हुए सभी बच्चों का खम्हरिया हायर सेकेंडरी स्कूल में कक्षा 9वी में दाखिला कराया गया और उन सभी का प्रवेश शुल्क एवं अन्य शुल्क संगठन के द्वारा दिया गया। तथा सभी को किताबें उपलब्ध कराई गई।*


*व्याख्याता सहदेव साहू ने कहा बड़ा ही गंभीर विषय है कि आज के समय में भी बच्चे मुख्यधारा से छूटकर स्कूलों में दाखिला नहीं ले रहे हैं माता-पिता भी बच्चों की पढ़ाई को लेकर उदासीन है।*


*प्रिंसिपल किंडों ने संगठन की सराहना करते हुए कहा  समाज में ऐसा वर्ग भी है जो शिक्षा के प्रति इतना जागरूक है कि हर संभव मदद के लिए तत्पर है। माता-पिता से वंचित बच्चों की सहायता कर रहे हैं। समाज की मुख्य धारा से जोड रहे हैं।* 


*समाज को सरकार नहीं बदलती, बल्कि समाज सेवा में जुटे फरिश्ते बदलते हैं। समाज के लिए कुछ करने की सोच भले ही कई लोग रखते हों, लेकिन इस जज्बे को बहुत कम लोग ही पूरा कर पाते हैं। गरीब और असहाय लोगों का नाम सुनकर जहां एक ओर सभी मदद करने में हिचकिचाते हैं। वहीं दूसरी ओर गरीब और पिछड़े वर्ग के लोगों के बच्चों को शिक्षित करने की सोच युवा संगठन ने उतारी और ऐसे परिवार के बच्चे जिनके माता-पिता भी नहीं है उन्हें समाज की मुख्यधारा से जोड़कर उन्हें शिक्षित करने का काम कर रहें हैं।*


*संगठन प्रमुख अर्जुन वस्त्रकार ने बताया कि उनके द्वारा अन्य जिलों में भी ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को सैनिक,एकलव्य,नवोदय,कस्तूरबा जैसे आवासीय विद्यालय में प्रवेश के लिए मार्गदर्शन एवं सहायता की जाती है।*


*मौके पर युवा संगठन के पदाधिकारी अजय यादव, करन साहू, श्रवण वस्त्रकार, प्रिंसिपल श्रीमती किंडों, व्याख्याता सहदेव साहू,जी.आर सूर्यवंशी,एल.एन.भार्गव, बत्रा मैडम,खलखो मैडम सभी शिक्षक एवं बच्चे उपस्थित रहे।*