बड़े – छोटे किसानों को 30-70 के अनुपात में पहले आओ पहले पाओ के आधार पर जारी होगा टोकन

बड़े – छोटे किसानों को 30-70 के अनुपात में पहले आओ पहले पाओ के आधार पर जारी होगा टोकन

बड़े – छोटे किसानों को 30-70 के अनुपात में पहले आओ पहले पाओ के आधार पर जारी होगा टोकन





ओमप्रकाश साहू /जांजगीर-चांपा-एक दिसंबर से जिले में राज्य का सबसे बड़ा समर्थन मूल्य पर धान खरीदी क अभियान प्रारंभ हो रहा है। धान खरीदी के लिए बड़े-छोटे किसानों को 30 और 70 के अनुपात में टोकन जारी किए जाएंगे।


कलेक्टर श्री जितेन्द्र कुमार शुक्ला ने आज जिला पंचायत में आयोजित बैठक में कहा कि समर्थन मूल्य पर धान खरीदी एक दिसंबर से प्रारंभ की जाएगी। उन्होंने नोडल अधिकारियों और खरीदी केंद्र प्रभारियों को निर्देशित कर कहा है कि जिले के सभी उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी के लिए सभी आवश्यक तैयारियां सुनिश्चित कर लें ताकि एक दिसंबर से खरीदी का कार्य सुचारू रूप से संचालित हो सके। कलेक्टर ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार 30 बड़े किसान और 70 छोटे किसानों के अनुपात में टोकन काटा जाय। टोकन देने में पहले आओ पहले पाओ का नियम लागू करें। कलेक्टर ने कहा कि उपार्जन केन्द्र में भीड़ न हो इसके लिए हर गांव के लिए टोकन जारी करने अलग-अलग तिथि निर्धारित करें। इसका स्थानीय स्तर पर मुनादी एवं फ्लेक्स के माध्यम से प्रचार-प्रसार किया जाय। 


धान खरीदी के लिए हेल्प लाईन नंबर -07817-222090 – 


    कलेक्टर ने कहा कि धान खरीदी से संबंधित सूचनाओं के आदान-प्रदान एवं धान खरीदी से संबंधित समस्याओं के निराकरण के लिए जिला स्तर पर हेल्प लाईन नंबर स्थापित किया गया है। कोई भी व्यक्ति धान खरीदी से संबंधित अपनी समस्या के संबंध में हेल्प लाईन नंबर- 07817-222090 पर सूचना दे सकता है। इसके लिए सहायता केन्द्र में कर्मचारियों की नामजद ड्यूटी लगाई जा रही है। प्राप्त सूचना का पंजी में संधारण किया जाएगा। समस्या के निराकरण होने पर पंजी में इसका उल्लेख भी होगा। सूचना देने वाले का नाम, पता, नंबर भी दर्ज किया जाएगा। उप पुलिस अधीक्षक श्री संजय महादेवा ने सभी धान खरीदी नोडल अधिकारियों को बताया कि अपने-अपने क्षेत्र के संवेदनशील उपार्जन केन्द्रों पर विशेष ध्यान दें। कानून व्यवस्था पालन करवाने के लिए पुलिस नियंत्रण कक्ष का नंबर- 94791-93199 पर तत्काल सूचना दे सकते है। संबंधित थाने के पुलिस अधिकारी से तत्काल सहायता मिल सकेगी। 


     कलेक्टर ने कहा कि निगरानी दल के अधिकारियों द्वारा उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण किया जाएगा। निरीक्षण रिपोर्ट को गुगल शीट पर रोज अपडेट किया जाएगा। जिससे उपार्जन केन्द्र से संबंधित आवश्यकता एवं शिकायतो का निराकरण समय पर किया जा सके। कलेक्टर ने जिला पंजीयक एवं सहकारी बैंक के नोडल अधिकारी से कहा कि विगत वर्ष जिन किसानों के बारदानों का उपयोग किया गया था। उसका निर्धारित दर पर भुगतान हो जाना चाहिए। कलेक्टर ने तकनीकी कारणों से लंबित भुगतानों का तत्काल निराकरण सुनिश्चित करने कहा।

     कलेक्टर ने सभी नोडल अधिकारियों से कहा कि वे अपने- अपने क्षेत्र के उपार्जन केन्द्रों का भौतिक सत्यापन कर लें। बुधवार 1 दिसंबर से सभी उपार्जन केन्द्र धान खरीदी के लिए पूर्ण रूप से तैयार  के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थी रहे!