विधायक विकास उपाध्याय ने अपने क्षेत्र में छट पूजा स्थलों का भ्रमण कर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की

विधायक विकास उपाध्याय ने अपने क्षेत्र में छट पूजा स्थलों का भ्रमण कर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की

विधायक विकास उपाध्याय ने अपने क्षेत्र में छट पूजा स्थलों का भ्रमण कर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की 


विकास उपाध्याय छठ महापर्व के लिए की जा रही तैयारियों का जायजा लेने रोज सुबह से पूरे क्षेत्र में भ्रमण कर रहे थे जो आज पूर्ण हो गया



रायपुर-विश्व प्रसिद्ध सूर्य देव की आराधना तथा संतान के सुखी जीवन की कामना के लिए समर्पित आज से शुरू हो रहे छठ पूजा को लेकर विधायक विकास उपाध्याय अपने विधानसभा क्षेत्र में पूरी श्रद्धा व धूमधाम से मनाने लगातार चिन्हित तालाबों के घाट का निरीक्षण कर साफ सफाई व उचित व्यवस्था को लेकर अपने समर्थकों के साथ लगे हुए थे जो आज पूर्ण हो गया।यह पर्व हर वर्ष का​र्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को होती है। इस वर्ष छठ पूजा 20 नवंबर दिन शुक्रवार को है। जिसकी शुरुआत आज से हो गई है।


विधायक विकास उपाध्याय ने भ्रमण के दौरान मीडिया के माध्यम से सभी श्रद्धालुओं से कोरोना के बचाव हेतु सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की है। छठ पूजा का प्रारंभ दो दिन पूर्व चतुर्थी तिथि को नहाय खाय से होता है, फिर पंचमी को लोहंडा और खरना होता है। उसके बाद षष्ठी तिथि को छठ पूजा होती है, जिसमें सूर्य देव को शाम का अर्घ्य अर्पित किया जाता है। इसके बाद अगले दिन सप्तमी को सूर्योदय के समय में उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देते हैं और फिर पारण करके व्रत को पूरा किया जाता है। तिथि के अनुसार, छठ पूजा 4 दिनों की होती है जो आज 18 नवंबर से आरंभ हो रही है और ये 4 दिन के पूरे कार्यक्रम को पूरे श्रद्धा के साथ पूरे पश्चिम विधानसभा क्षेत्र में सुचारू रूप से सम्पन्न कराने वे खुद अपने साथियों के साथ तैयारी में लगे हुए हैं।


विकास उपाध्याय ने छट पूजा के 4 दिन के महत्व को विस्तार से बताते हुए कहा पहला दिन जो आज से शुरू होगा छठ पूजा का प्रारंभ कार्तिक शुक्ल चतुर्थी तिथि से होती है। यह छठ पूजा का पहला दिन होता है, इस दिन नहाय खाय होता है। इस वर्ष नहाय-खाय 18 नवंबर दिन बुधवार को है। इस दिन सूर्योदय सुबह 06:46 बजे और सूर्योस्त शाम को 05:26 पर होगा। वहीं दूसरे दिन लोहंडा और खरना छठ पूजा का दूसरा दिन होता है। यह कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को होता है। इस वर्ष लोहंडा और खरना 19 नवंबर दिन गुरुवार को है। इस दिन सूर्योदय सुबह 06:47 बजे पर होगा और सूर्योस्त शाम को 05:26 पर होगा।


छठ पूजा का मुख्य दिन कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि होती है। इस दिन ही छठ पूजा होती है। इस दिन शाम को सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। इस वर्ष छठ पूजा 20 नवंबर को है। इस दिन सूर्यादय 06:48 बजे पर होगा और सूर्योस्त 05:26 बजे होना है। छठ पूजा के लिए षष्ठी तिथि का प्रारम्भ 19 नवबंर को रात 09:59 बजे से हो रहा है, जो 20 नवंबर को रात 09:29 बजे तक है एवं चौथा दिन छठ पूजा का अंतिम दिन कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि होती है। इस दिन सूर्योदय के समय सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित किया जाता है। उसके बाद पारण कर व्रत को पूरा किया जाता है। इस वर्ष छठ पूजा का सूर्योदय अर्घ्य तथा पारण 21 नवंबर को होगा। इस दिन सूर्योदय सुबह 06:49 बजे तथा सूर्योस्त शाम को 05:25 बजे होगा।


विकास उपाध्याय छठ महापर्व के लिए की जा रही तैयारियों का जायजा लेने रोज सुबह से पूरे क्षेत्र में भ्रमण कर रहे थे जो आज पूर्ण हो गया है। वे कल खमतराई तालाब,मच्छी तालाब गुढ़ियारी,नया तालाब गुढ़ियारी,आमातालाब समता कॉलोनी,महादेवघाट रायपुरा सहित विभिन्न घाटों का दौरा कर व्यवस्था का जायजा लिया था।