चैतुरगढ़ मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रतिबंधित,ढह गया रैंप- बारिश से रैम्प, सड़क, पुल को भारी नुकसान

चैतुरगढ़ मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रतिबंधित,ढह गया रैंप- बारिश से रैम्प, सड़क, पुल को भारी नुकसान

चैतुरगढ़ मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रतिबंधित,ढह गया रैंप- बारिश से रैम्प, सड़क, पुल को भारी नुकसान


डरा रहीं चैतुरगढ़ के रैम्प की दरारे-दर्शनार्थियों के लिए बड़ा खतरा,


दीपक शर्मा/कोरबा/पाली:-कोरबा जिले के पाली ब्लॉक स्थित धार्मिक पर्यटन स्थल चैतुरगढ़ के रैम्प में बड़ी दरार आ गई है और कई स्थानों पर रैंप ढह गया है। लगातार बारिश होने के कारण रैम्प ढहने के साथ साथ दरार भी बढ़ती ही जा रही है। जो पर्यटकों और दर्शनार्थियों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। वही भूस्खलन की स्थिति लगातार बनी हुई है।

दरअसल पूर्व में यहां की सीढ़ियां तोड़कर वाहनों की आवाजाही के लिए रैम्प बनाया गया था। जिसमें बरसात की वजह से दरार आ गई है। अब मंदिर आने जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए यह दरार खतरा बना हुआ है, इस रैम के सहारे चार पहिया वाहन सीधे मंदिर परिसर तक पहुंच जाते थे लेकिन अब यह संभव नहीं है। क्यूंकि बहुत बड़ा खतरा साबित हो सकता है ।इस ओर जिला प्रशासन और पर्यटन विभाग के अधिकारियों को गंभीरता पूर्वक ध्यान देने की जरूरत है वरना यहां अनहोनी घट सकती है। वर्तमान में वर्षा ऋतु के मैं प्राकृतिक सौंदर्य को देखने बड़ी संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। इसकी जानकारी प्रशासन को दे दी गई है। वन विभाग ने सर्वे कराकर एक एस्टीमेट भी शासन को भेज दिया है। लेकिन अब तक कोई भी मरम्मत कार्य आरंभ नहीं हुआ है जिससे हाल ही में हो रही बारिश के बाद खतरा और बढ़ गया है। लगभग एक माह बाद शारदीय नवरात्रि का पर्व आने वाला है। मंदिर में आयोजित होने वाले नवरात्र महोत्सव में दूर दराज से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं।ऐसे में प्रशासन की उदासीनता समझ से परे है। नवरात्रि के पूर्व मरम्मत कार्य आरंभ हो पाएगा ऐसा नहीं लगता है जो कि श्रद्धालुओं के लिए बड़ा खतरा बन सकता है।