विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने हितग्राहियों से की चर्चा- मुख्यमंत्री के समक्ष 62 सामुदायिक वन संसाधन अधिकार पत्र वितरित

विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर  मुख्यमंत्री श्री बघेल ने हितग्राहियों से की चर्चा- मुख्यमंत्री के समक्ष 62 सामुदायिक वन संसाधन अधिकार पत्र  वितरित

विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर  मुख्यमंत्री श्री बघेल ने हितग्राहियों से की चर्चा- मुख्यमंत्री के समक्ष 62 सामुदायिक वन संसाधन अधिकार पत्र  वितरित 


 

गरियाबंद- प्रकृति के संरक्षण एवं संर्वधन हेतु राज्य शासन द्वारा वर्तमान में सामुदायिक वन संसाधन अधिकार पत्र, सामुदायिक वन अधिकार पत्र विशेष जोर दिया जा रहा है ।आज 09 अगस्त 2021 को विश्व आदिवासी दिवस के  अवसर पर वर्चुवल कार्यक्रम का आयोजन  मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में की गई । वर्चुवल कार्यक्रम में आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास विभाग  मंत्री श्री प्रेमसाय टेकाम, वन मंत्री  मोहम्मद अकबर,  जनप्रतिनिधि  सदस्यगण एवं आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति विकास विभाग के सचिव श्री डी.डी.सिंह, शम्मी आबिदी आयुक्त आदिवासी विकास विभाग, जिलों के कलेक्टर,  सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विमाग एवं वन अधिकार पत्र प्राप्त करने वाले हितग्राही उपस्थित थे। वर्चुवल कार्यक्रम में गरियाबंद जिले से कलेक्टर श्री निलेश कुमार क्षीरसागर, वनमण्डलाधिकारी श्री मयंक अग्रवाल, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास एल.आर कुर्रे एवं  श्री सुखचंद कमार, अध्यक्ष, कमार विकास अभिकरण गरियाबंद, शामिल हुए ।साथ ही

ग्राम हसौदा, कामेपुर बोईरखेड़ा,परियाबाहरा,सातधार के वन अधिकार समिति के अध्यक्ष सम्मिलित हुए। 

वर्चुवल कार्यक्रम में मुख्यमंत्री  द्वारा  जनप्रतिनिधी, कलेक्टर,हितग्राहियों से वर्चुवल रूप से वन अधिकार पत्र प्राप्त होने संबंधी तथा आदिवासी उत्पादों का विक्रय करने वाले स्व-सहायता समूहों के सदस्यों से चर्चा की गई।

सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्री कुर्रे ने बताया कि गरियाबंद जिले से 62 सामुदायिक वन संसाधन अधिकार पत्र रकबा 27 हजार 610.938 हेक्टेयर के वन अधिकार पत्रों का वितरण किया गया ।जिसमें सांकेतिक रूप से 05 ग्राम हसौदा, कामेपुर बोईरवेड़ा, परियावाहरा, सातधार के ग्रामों का वन अधिकार पत्र मुख्यमंत्री श्री बघेल के समक्ष वर्चुवल रूप से वितरित किया गया। गरियाबंद जिले में इसके पूर्व 32 सामुदायिक वन संसाधन अधिकार पत्रों का वितरण किया जा चुका है। इस प्रकार कुल 94 सामुदायिक वन संसाधन अधिकार पत्र रकबा 52 हजार 825.982 हेक्टेयर वन संसाधन अधिकार क्षेत्र के रूप में दिये जा रहें है। जिले के मेधावी छात्र श्री मोहेन्द्र दीवान ग्राम सम्बलपुर, विकासखण्ड गरियाबंद जो कि प्रयास विद्यालय जगदलपुर में अध्ययनरत् थे. उनका चयन एम.बी.बी.एस. पाठ्यक्रम में सेन्ट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल सांईस बिलासपुर में होने के कारण उनको लेपटॉप हेतु राशि रू. 50 हजार के चेक द्वारा  मुख्यमंत्री के समक्ष वर्चुवल रूप से कलेक्टर  द्वारा सम्मानित किया गया है । साथ ही मुख्यमंत्री  द्वारा गरियाबंद जिले के समीप स्थित ग्राम केशोडार में संचालित भुतेश्वरनाथ हर्बल औषधी निर्माण केन्द्र से जुड़े महिला सदस्यों से वर्चुवल चर्चा की गई जिसमें सदस्यों द्वारा बताया गया, कि समूह स्थापना वर्ष 2004 में की गई है, समूह में कुल 12 सदस्य है। इन 12 सदस्य के अतिरिक्त 43 महिलाओं को सालभर रोजगार दिया जा रहा है। औषधी केन्द्र में 14 प्रकार के औषधी उत्पाद जैसे महाविषगर्भ तेल, भृगराज तेल तथा सर्व ज्वरहर चूर्ण के अतिरिक्त अन्य

प्रकार के औषधियों का निर्माण किया जाता है। वर्ष 2020-21 में औषधी केन्द्र द्वारा 26 लाख 37 हजार 450 रू. का औषधी विक्रय किया गया जिसमें लाभ के रूप में 14 लाख 80 हजार 313 रू. प्राप्त हुए है ।