मुख्यमंत्री ने नारायणपुर में नक्सली हमले की निंदा की

मुख्यमंत्री ने नारायणपुर में नक्सली हमले की निंदा की

मुख्यमंत्री ने नारायणपुर में नक्सली हमले की निंदा की 

कहा जवानों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी
    रायपुर -
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज नारायणपुर जिले के कड़ेमेटा और कड़ेनार के बीच सर्चिंग पर निकले आईटीबीपी के जवानों पर नक्सलियों द्वारा घात लगाकर हमला किए जाने की घटना की निंदा की है। नक्सली हमले में आईटीबीपी की 45वीं बटालियन के दो अफसर शहीद हो गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि हमारे जवानों की बहादुरी से नक्सलियों के हौसले पस्त हो गए हैं और वह अपनी अंतिम लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि जवानों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी। नक्सली अपने इरादे में कभी भी कामयाब नहीं होंगे। 

ज्ञातव्य है कि आज  जिला नारायणपुर के कडेमेटा कैम्प से आईटीबीपी 45वीं वाहिनी का एक दल आसपास इलाके के डोमिनेशन हेतु  कैम्प से रवाना हुए थे। दोपहर लगभग 12.10 बजे कडेमेटा से कडेनार के बीच बेंचा मोड़ में नक्सलियों द्वारा आई टी बी पी की पार्टी के ऊपर घात लगाकर फायरिंग किया गया। फायरिंग लगभग आधे घंटे तक चली। फायरिंग के दौरान आई टी बी पी के सहायक सेनानी श्री सुधाकर शिंदे एवं सहायक उप निरीक्षक श्री गुरुमुख सिंह गोली लगने से घटना स्थल पर ही शहीद हो गए। घटना के तत्काल बाद के आसपास के इलाकों की सघन सर्चिंग हेतु डी आर जी एवं आई टी बी पी 45वीं वाहिनी का संयुक्त बल रवाना किया गया।
शहीद सहायक सेनानी श्री सुधाकर शिंदे एवं शहीद सहायक उप निरीक्षक श्री गुरुमुख सिंह की अंतिम सलामी रक्षित केंद्र नारायणपुर में दी गयी। इस दौरान बस्तर रेंज आईजी श्री सुंदर राज पी, डीआईजी कांकेर रेंज श्री बालाजी राव सोमावार, कलेक्टर नारायणपुर श्री धर्मेश साहू, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर श्री उदय किरण, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चंद्राकर, एवं वरिष्ठ जनप्रतिनिधिगण सर्वश्री रजनु नेताम, देवनाथ उसेंडी, बृजमोहन अग्रवाल,जैकी कश्यप, रतन दुबे,  पंकज जैन, सुदीप झा उपस्थित रहे थे।