आकाशवाणी केंद्र जगदलपुर ने एक किसान का साक्षात्कार लेकर प्रसारण भी किया ये है वजह

आकाशवाणी केंद्र जगदलपुर ने एक किसान  का साक्षात्कार लेकर प्रसारण भी किया ये है वजह


दन्तेवाड़ा- केले की खेती के सहारे जिले के नायक बनकर उभरे एक किसान जिसमें जिला दंतेवाड़ा में विकासखंड गीदम के अंतर्गत ग्राम कासोली के निवासी श्री शैलेश अटामी एक प्रगतिशील कृषक के रूप में उभर रहा है उन्होंने कहा कि केले के पत्तियों को भी नहीं फेंकते किसान वहां केले की सूखी पत्तियों को फेंका नहीं जाता, वे वहीं गिरकर खाद बन जाते हैं। इसमें खेत को मदद करने वाले कल्चर उपजते हैं। प्रारंभ में वह पारंपरिक रीति से सिर्फ धान का फसल लगाता था। वर्ष दो हजार अट्ठारह उन्नीस में उद्यानिकी मैदानी अमले के सलाह से राष्ट्रीय कृषि विकास योजना अंतर्गत 1 हेक्टेयर क्षेत्र में टिशु कल्चर केला पौधे का रोपण किया 10-11 माह के पश्चात केले की फसल से 50-60 हजार का सूत्र आमदनी अर्जित किया केले की फसल से आमदनी को देखते हुए एक हेक्टेयर रकबा और बढ़ाया अब उसके पास कुल 2 हेक्टेयर क्षेत्र में केला का फसल लगाया है केले की फसल से अच्छी आमदनी को देखते हुए 3 एकड़ में और केला का रोपण करने का कार्यक्रम बनाया किसान द्वारा केले की मात्र वृक्ष से केले का विस्तार किया जा रहा है जिससे कृषक को प्रतिमाह केवल केले से लगभग 10से 15 हजार की मासिक आमदनी प्राप्त हो रही है l





अब तक केले के फसल से 1 लाख 40 हजार रूपये की आमदनी अर्जित कर चुके है। केले के साथ-साथ 3 सौ नारियल के पेड़ भी लगाएं हैं शैलेश अटामी कासोली ग्राम का एक आदर्श किसान है। जिसे देखकर अन्य किसानों का उद्यानिकी खेती की ओर रुझान बढ़ रहा है। शैलेश अपने खेत में पांच छः लोगों को काम में लगा कर साल भर रोजगार मुहैया कराते हैं। जिले में केले की मांग अधिक होने के कारण अन्य बाहरी जिलों में बेचने के लिए जाना नहीं पड़ता है। इसलिए पैदावार को अकेला 35 से 40 रुपए दर्जन के भाव से बिक्री किया इसके अलावा अन्य फूटकर विक्रेता उनके घर से ही केला फल खरीदने आते है। श्री शैलेश अटामी की उन्नति को देखते हुए आकाशवाणी केंद्र जगदलपुर से भी इनका साक्षात्कार लेकर प्रसारण भी किया गया। शैलेश उद्यानिकी फसल तकनीकी पद्धति से पैदावार लेकर बहुत खुश हैं और इनका जीवन स्तर भी बहुत अच्छा हुआ है।