अयोध्या में राम मंदिर निर्माण करोड़ों रामभक्तों की आस्था और विश्वास का केंद्र होगा : गणेश तिवारी

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण करोड़ों रामभक्तों की आस्था और विश्वास का केंद्र होगा : गणेश तिवारी

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण करोड़ों रामभक्तों की आस्था और विश्वास का केंद्र होगा : गणेश तिवारी 


आज पूरे देश में एक उत्साह और उमंग की लहर है। अयोध्या में प्रभु श्री राम जी के भव्य मंदिर निर्माण की आज आधारशिला को स्थापित किये जाने पर हर भारतवासी श्रीराम जी की भक्ति में लीन है। अयोध्या में आज इतिहास रचा गया है। वर्षों तक अदालत में मामला चलने के बाद आज अयोध्या में राम मंदिर की नींव पड़ गई है।


राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटक के राष्ट्रीय सचिव एवं प्रवक्ता गणेश तिवारी ने कहा कि श्रीराम मंदिर का शिलान्यास अतिखुशी का पल है। यह सब के आस्था पर बना हुआ मंदिर का निर्माण होगा या हिंदू धर्म का प्रतीक बनेगा देश की एकता और अखंडता का यह महान दरबार बनेगा। आज जिस जमीन पर राम मंदिर के भूमिपूजन का श्रेय लेते हुये मोदी जी वाहवाही लूट रहें हैं दरअसल 1993 में कांग्रेस सरकार ने ही इस जमीन का अधिग्रहण किया था  ।


राम मंदिर के लिए चला आंदोलन हो या इसके लिए हिंदुओं को एकजुट करने की पहल सबसे पहले काँग्रेस सरकार की तरफ से ही हुई थी। महात्मा गांधी और भगवान राम का गहरा नाता था। उन्होंने अक्सर कहा कि मुझे ताकत भगवान राम के नाम से मिलती है। यह मुझे संकट के क्षणों से उबारती है। नई ऊर्जा देती है। न केवल एक सच्चे रामभक्त की तरह महात्मा गांधी ने पूरे जीवन में राम नाम का जाप किया, बल्कि अपने जीवन में भी सरलता, सादगी और आत्म-समर्पण को अपनाया।भगवान श्रीराम का ऐसा ही प्रभाव पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर भी था। उन्हें देश पर रामायण का असर पता था। उनके ही कहने पर  दूरदर्शन में  रामानंद सागर के रामायण का प्रसारण किया।

। 


गणेश तिवारी ने कहा है कि राम सबके हैं और मंदिर निर्माण राष्ट्रीय एकता का मौका बने। मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु राम के मंदिर का निर्माण न्यायप्रक्रिया के अनुरूप तथा जनसाधारण के उत्साह व सामाजिक सौहार्द के संबल से हो रहा है. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे विश्वास है कि मंदिर परिसर, रामराज्य के आदर्शों पर आधारित आधुनिक भारत का प्रतीक बनेगा। राम मंदिर का निर्माण असंख्य रामभक्तों के सदियों के निरंतर त्याग, संघर्ष, तपस्या और बलिदान का परिणाम है। आज के दिन मैं उन सभी तपस्वियों को नमन करता हूँ जिन्होंने इतने वर्षों तक सनातन संस्कृति की इस अमूल्य धरोहर के लिए संघर्ष किया। 





 उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के एतिहासिक निर्णय अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ। लेकिन भाजपा ने इसे चुनावी रंग देते हुए इसके निर्माण का श्रेय खुद ले रही है। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण से वह धार्मिक व पर्यटन का महत्वपूर्ण केंद्र बनकर उभरेगा। भव्य राम मंदिर का पूजन भारत के उस नये और मौलिक स्वरूप का उद्भव भी होगा। भगवान श्रीराम का पूरी दुनिया में अपनी अलग पहचान है। 

प्रभु श्रीराम मानवता का प्रतिनिधित्व, विवेक, त्याग, तपस्या, मर्यादा व जीवन के मूल्यों व नैतिकता का संपूर्ण समावेश का प्रतीक है। जिसे हम जीवन में उतारकर एक सच्चे इंसान के रूप में जीकर अपनी सार्थकता प्रमाणित करेंगे। भूमि पूजन को लेकर देश में उल्लास का वातावरण है।