*कमरछठ " *व्रत*" या *प्राचीन महिला स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन

*कमरछठ

*कमरछठ " *व्रत*" या *प्राचीन महिला स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन*


डाॅ गुलशन कुमार सिन्हा-छत्तीसगढ़ की महिलाओं द्वारा वर्षा ऋतु में रखा जाने वाला व्रत(उपवास) जिसे कमरछठ कहा जाता है। कमरछठ व्रत मान्यताएँ है कि महिलाएँ(माताएँ व बहनें) इस उपवास को अपनी संतानों के लिए रखती है।वे बताती हैं कि जिनकी शादी नयी-नयी हुई है वे संतान प्राप्ति के लिए और जिनकी संतानें है वे दीर्घायु के लिए, उन्होंने आगे और बताया इस दिन वे दिन भर निर्जला उपवास रखती है।सुबह के समय महुआ की लकड़ी का दातुन बनाकर दाँत साफ करती है और महुआ की खरी से ही स्नान करती हैं वे उस दिन हल(नांगर) से जुते हुए मार्ग पर नहीं चलती है।उपवास की सामग्री बताते हुए उन्होने आगे कहा कि महुआ के पत्ते की थाली(पतरी),महुआ की लकड़ी का चम्मच,महुआ का तेल(टोरी तेल)उपयोग में लाया जाता है तथा लाई,धान,महुआ के सुखे फुल,बटर,गेहूँ,,चना का भी विशेष महत्व होना बताया।उनके अनुसार गांव में किसी के घर सगरी(कुंड) खोदा जाता है वहाँ पर फिर बगीचा रुपी कुछ घास और पौधे लगाते हैं उनमें कासी(घास की प्रजाति),अपामार्ग(चिड़चिड़ा),बेर,आम,चिरईया को किनारे में लगाया जाता है।छ.ग. के ग्रामीण महिलाओं की मान्यता है कि उपवास वाले दिन कासी( *कुश* घास) को अंगुठे और अनामिका अंगुली के बीच रखकर एक ही बार में बंध(गठान ग्रामीण भाषा) बांधना होता है बिना अंगुली हटाये।फिर उन्होने बताया उपवास तोड़ने के बाद पसहर चावल और 6 प्रकार की भाजी तथा भैंस के दुध,दही का सेवन किया जाता है।

*6 भाजियों के नाम- कद्दु भाजी,जरी भाजी, अमारी(खट्टा)भाजी, चेंच भाजी, मुनगा भाजी,कांदा भाजी*

इन सारी विविधताओं के साथ कमरछठ उपवास पूर्ण करती हैं।


डाॅ सिन्हा बताते हैं कि यह उपवास संतानों के लिए रखा जाता है तो इन्होंने इसके कारण को जानने की कोशिश की तो पता चला कि यह उपवास पुरी तरह वैज्ञानिकता से परिपूर्ण है या यूँ कहें कि हमारे पूर्वजों द्वारा सैंकड़ो वर्ष पूर्व शुरू की गई *महिला स्वास्थ्य मिशन* है जिसे परम्पराओं का अमली-जामा पहनाया गया ताकि ये परम्परा विलुप्त न हो और वर्षों तक आस्था(परम्परा) की भांति चलता रहे हम देखते हैं किसी चीज को आप परम्पराओं या आस्था से जोड़ दे तो लोग उसे सहज स्वीकारते हैं तो हमारे पूर्वजों का भी यही मत रहा होगा। पहले लड़कियों की शादी बहुत कम उम्र में हो जाती थी या बाल्यावस्था में ही जिससे शरीर परिपक्व नहीं हो पाता था। तो महिलाओं को शारिरीक समस्याएँ आती रहीं होंगी।

कमरछठ के दिन महुआ का दातुन किया जाता है इससे दांतो से खुन और मुँह से दुर्गन्ध नहीं आती।

इस दिन पुरी तरह से महुआ का ही उपयोग किया जाता है।

*महुआ का आयुर्वेद में विशेष महत्व है।महुआ को संस्कृत में- मधुक,गुड़पुष्प,माधव कहा जाता है। तथा लैटिन नाम- मधुका इंडिका है*

आयुर्वेदमतानुसार महुआ का:-

रस- मधुर ,कषाय

गुण-गुरु ,स्निग्ध

वीर्य-शीत

विपाक-मधुर

दोष-वातपित्त शामक होता है

महुआ का मासिक गड़बड़ी, दुध बढ़ाने के लिए, दर्दनिवारक तथा चर्म रोग आदि में उपयोग किया जाता है।

उपवास के दिन जो काशी बांधने की क्रिया होती है उसका बहुत ही बड़ा वैज्ञानिक महत्व है हमारी हथेलियों में एक्युप्रेशर पाइंट होती है जब वो जगह दबती है तो शरीर में विभिन्न क्रियाएँ होती है। हमारे अंगुठे में ऊपर मस्तिष्क का तथा उसके नीचे पीयूष ग्रंथि(pitutary gland) का केन्द्र होता है। जब हम पृथ्वी मुद्रा( *हठयोग के रचियता महर्षि घेरण्ड के अनुसार हथेली के अंगुठे और अनामिका अंगुली को जोड़ने से जो मुद्रा बनती है उसे पृथ्वी मुद्रा कहते हैं*) में कासी(घास) को पकड़ कर बांधते हैं तो अनामिका अंगुली से अंगुठे का पीयूष ग्रंथि का पाइंट दबता है भले ही हमें पता नहीं चलता हमें लगता है हम सिर्फ एक कासी को बांध रहे हैं पर चिकित्सकीय दृष्टि से देखें तो हम बार बार पीयूष ग्रंथि के पाॅइंट को दबाते रहते हैं।वैसे भी यह देश कृषि प्रधान रहा है और छ.ग. कृषि प्रधान राज्य तो पहले के समय में अधिकांशत: औरतें खेत काम करने जाया करती थीं और यह घास खेत में पाया जाता है तो कमरछठ उपवास से महीनें दिन पूर्व से बांधने का अभ्यास करती रहती थी जिससे कमरछठ उपवास के दिन बांध सके वे परम्परा का हिस्सा समझ यह करती थी लेकिन बार बार पीयूष ग्रंथि का पाॅइंट दबने से हार्मोन स्त्रावित होता रहा।

पीयूष ग्रंथि से स्त्रावित होने वाले हार्मोन:-

1. ACTH

2. TSH

3.PROLACTIN

4.GH

5.FSH & LH

जब ये हार्मोन स्त्रावित होती है तो महिलाएँ जो कम उम्र  की है GH हार्मोन के कारण वृद्धि प्रक्रिया सक्रिय होती है

TSH हार्मोन यह हार्मोन थायराइड को नियंत्रित रखती है

ACTH यह हार्मोन एड्रिनल ग्रंथि को नियंत्रित करती है

FSH यह हार्मोन Ovary में अण्डे को विकसित करने के लिए उत्तेजित करता है

LH हार्मोन अण्डे को Ovary से Follical के बाहर निकलवाता है

अर्थात यह हार्मोन संन्तानोत्पत्ति में सहायक होता है इसलिए प्राचीन मान्यताओं में कमरछठ को संतानोत्पत्ति या संतान के लिए जोड़ कर देखा जाता रहा है।

अब संध्याकाल में उपवास तोड़ने के बाद पसहर चावल(Red Rice)का सेवन करते हैं इसमें एन्टी-आक्सीडेन्ट भरपुर मात्रा में होता है जिसे एंथोसाइएनिन्स भी कहते है,यह शरीर में होने वाली जलन,एलर्जी, *कैंसर* के खतरे कम और वजन को सही बनाये रखने में मदद करता है।

*6प्रकार की भाजियाँ*:-

1. *मुनगा भाजी*:- यह अपने आप में एक पुर्णतः औषधीय पौधा है इसके पत्तों को ही भाजी कहते हैं, इसकी पत्तियों में प्रोटीन के साथ साथ विटामिन B6, विटामिन C, विटामिनA, विटामिन E इतना ही नहीं इसमें आयरन, मैग्निशियम, पोटैशियम और जिंक जैसे मिनरल पाये जाते हैं *एनिमिया को ठीक करने में मुनगा कारगर माना गया है*

2. *जरी भाजी*:- सबसे अधिक ग्रीन ब्लड सेल्स इसी भाजी में पाया जाता है।

3. *अमारी(खट्टा) भाजी*:- यह पाचन में सहायक है पेट साफ करने के लिए फायदेमंद है(यह सुपाच्य है)।

4. *कद्दु भाजी*:- बाल झड़ने को रोकने में उपयोगी।

5. *कांदा भाजी*:-यह चर्म रोग( skin disorder)में लाभदायक है।

6. *चेंच भाजी*:- इसमें प्रोटीन 8.7% और कार्बोहाइड्रेट 66.04% पाया जाता है।

पसहर चावल और भाजियों के सेवन के साथ साथ भैंस की दही और दुध का भी सेवन किया जाता है।भैंस का दुध भुखे व्यक्ति में लाभकारी है इसमें बहुत से मिनरल्स पाये जाते हैं।

इसी प्रकार कमरछठ उपवास होता है जो पुरी तरह महिलाओं के स्वास्थ्य के इर्द गिर्द घुमती है।

अतः हम यह मान सकते हैं कि यह एक उपवास ही नही प्राचीन महिला स्वास्थय सुरक्षा मिशन है।जिसे कम उम्र की महिलाओं के स्वास्थय का चिंतन तथा वयस्क महिलाओं के शरीर में होने वाली विविध समस्याओं को ध्यान में रख कर बनाया गया।


*डाॅ गुलशन कुमार सिन्हा*

*लेखक आयुर्वेद चिकित्सक एवं जानकार है* ,ग्राम -कनसिंघी, तहसील छुरा जिला गरियाबंद में निवासरत है,संपर्क .7000948815