बस्तर जिले के बकावंड ब्लॉक के ग्राम पंचायत मूली मे 9 अगस्त 2021 सोमवार को विश्व आदिवासी दिवस भव्य रुप से मनाया गया

बस्तर जिले के बकावंड ब्लॉक के ग्राम पंचायत मूली मे 9 अगस्त 2021 सोमवार को विश्व आदिवासी दिवस भव्य रुप से मनाया गया

बस्तर जिले के बकावंड ब्लॉक के ग्राम पंचायत मूली मे 9 अगस्त 2021 सोमवार को विश्व आदिवासी दिवस भव्य रुप से मनाया गया

पुरनबघेल/ बस्तर-9 अगस्त को विश्वआदिवासी दिवस विश्व के समस्त आदिवासी जनजाति समुदाय के लोगों के द्वारा मनाया जाता है प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी जगह-जगह पर यह कार्यक्रम का आयोजन किया गया था बकावंड ब्लाक के बोरपदर से ग्राम मूली तक मोटरसाइकिल की रैली निकालकर जगदलपुर विकासखंड एवं बस्तर विकासखंड के लोगों का भव्य रुप से स्वागत किया गया और समस्त आदिवासी समाज के लोग ग्राम मूली के कार्यक्रम में शामिल हुए।  छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज के समस्त पदाधिकारी गण एवं आदिवासी नेताओं ने समाज के लोगों को जगाने का प्रयास किया इस कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज के प्रांत उपाध्यक्ष राजाराम तोड़ेम ने लोगों से निवेदन करते हुए कहा संविधान के अनुसार से हम पांचवी अनुसूचित क्षेत्रों में रहते हैं हमें इसके बारे में जानकार होना चाहिए समझना चाहिए इस क्षेत्र में कोई भी बाहरी व्यक्ति अचानक घुस नहीं सकता हम कोई भी अधिकारी को देख कर डर जाते हैंडरने की आवश्यकता नहीं है पेशा कानून क्या है इसकी जानकारी हमें होनी चाहिए संविधान के माध्यम से हमें एकाधिकार मिला हुआ है हमारे हक के बारे में हमको पूरी जानकारी होनी चाहिए।

साथ ही आदिवासी नेता दिनेश कश्यप ने हमारे समस्त आदिवासी समाज के लोगों को जगाने का प्रयास करते हुए धर्मांतरण बिल्कुल नहीं होना चाहिए धर्मांतरण होने से मत मतांतरण होता है जिससे हमारे समाज के लोगों को होने वाली लाभ से वंचित हो जाना पड़ता है

छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज जगदलपुर जिला बस्तर के कार्यकारिण अध्यक्ष दशरथ कश्यप ने कहा हमारे जीवन में शिक्षा अभिन्न अंग है हमें तो सबसे पहले शिक्षा को प्राथमिकता देनी होगी बच्चों को अच्छी शिक्षा दे ताकि हमें जो संविधान के माध्यम से अधिकार मिला है उसे जाने पहचाने तभी हम अपने समाज को आगे बढ़ा पाएंगे।

आदिवासी नेता केदार कश्यप ने  हमारे समाज के लोगों को जागृत करने का प्रयास किया और कहा ईसाई मिशनरियों ने एक बाइबिल लेकर आए और हमारे लोगों का धर्म परिवर्तन कराके हमारे ही लोगों के हाथों में बायबिल थमा दिया और उनके हाथों में जमीन ले लिया इसलिए हमें पेसा एक्ट कानून पांचवी अनुसूची की पूर्ण जानकारी होनी चाहिए हमारी संस्कृति को बचाने के लिए हमारे पूर्वजों ने भी बहुत संघर्ष किया था इसलिए हमें भी संघर्षशील रहना है और राज्य सरकार या राज्यसभा कोई बड़ा नहीं होता सबसे बड़ा ग्राम सभा होता है इसलिए हमें अपने हक को पहचानना चाहिए।

आदिवासी नेता डॉक्टर शुभाऊ कश्यप ने कहा हमारे समाज की अज्ञानता के कारण हमारी संस्कृति लुप्त होती जा रही है कुछ ही समय पहले ही हमारे कुछ प्रबुद्ध जनों के द्वारा समाज को जागृत किया जा रहा है तो आज लगता है कि हमारे आदिवासी जाग रहे हैं ।

आदिवासी नेता महेश कश्यप ने कहा विश्व आदिवासी दिवस हमारे जल जंगल जमीन को बचाने के लिए सतत प्रयत्न करने वाली सर्व आदिवासी समाज को जोडने वाला कार्य दिवस है 1977 में अमेरिका में संयुक्त राष्ट्र संघ के द्वारा 9 अगस्त को विश्व आदि दिवस मनाए जाने की घोषणा किया गया सबसे विश्व आदिवासी दिवस मनाया जा रहा है विश्व के 90 देशों में 37 करोड़ आदिवासी है और आदिवासियों में 5000 प्रकार के जाति के लोग होते हैं। इस कार्यक्रम में आदिवासी नेता समाज प्रमुख पुजारी ग्राम देवता मातेश्वरी  की छत्र एवं आंगा देवता के साथ,नाईक ,पाईक व सामाजिक कार्यकर्ता महिला पुरुष बुजुर्ग एवं बच्चे भी भारी मात्रा में उपस्थित रहे।

यह कार्यक्रम छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज बकावंड के अध्यक्ष महेंद्र कश्यप के नेतृत्व में  संपन्न हुआ