जनघोषणा पत्र में जनता से किए वायदे की झलक बजट में कहीं भी नहीं- अनिल चंद्राकर

जनघोषणा पत्र में जनता से किए वायदे की झलक बजट में कहीं भी नहीं- अनिल चंद्राकर

जनघोषणा पत्र में जनता से किए वायदे की झलक बजट में कहीं भी नहीं- अनिल चंद्राकर


लोकेश्वर सिन्हा

गरियाबंद। राज्य सरकार द्वारा पेश किए गए बजट को लेकर भाजपा जिला महामंत्री अनिल चंद्राकर ने कहा कि छत्तीसगढ़ की जनता के लिए यह बजट पूरी तरह से निराशाजनक है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जनघोषणा पत्र में जनता से जो वायदा किए थे, उसकी झलक इस बजट में कहीं नजर नही आ रही है। बल्कि केंद्र सरकार की योजनाओं को बजट में शामिल करके वाहवाही लूटने का प्रयास किया गया है। श्री चंद्राकर ने कहा कि सीमांत किसान इस बजट से गायब हैं, जिससे किसानों में रोष देखा जा रहा है। आशाजनक और उम्मीद का बजट कहीं से भी नजर नही आ रहा है। छत्तीसगढ़ के आदिवासियों के लिए बजट में कोई खास प्रावधान नहीं किया गया है। इस बजट से आमजनता को निराशा हाथ लगी है। वहीं बेरोजगार युवक इस उम्मीद में थे कि रोजगार एवं बेरोजगारी भत्ता का प्रावधान बजट में होगा, लेकिन इन्हें भी निराशा का सामना करना पड़ा है।

राज्य सरकार का यह तीसरा बजट था, जिसमें छत्तीसगढ़ के समग्र विकास को लेकर बजट पेश नहीं किया गया है। गरियाबंद जिले को लेकर बजट में कुछ भी नया नहीं है। जिससे कि यहां के लोगों में राज्य सरकार के खिलाफ नाराजगी व्याप्त है। उन्होंने कहा कि जनता से किए वायदों को यह सरकार भूल गई है। महिला स्व-सहायता समूह की महिलाएं कर्ज माफी के इंतजार में हैं। आख़िर छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार कब स्व-सहायता समूह की कर्ज माफ करेगी।