एक बार फिर कुसमुण्डा पुलिस का मानवीय चेहरा आया सामने, दर - दर भटक रही वृद्धा को जरुरत का सामान देते हुए सकुशल पहुंचाया वृद्धाश्रम

एक बार फिर कुसमुण्डा पुलिस का मानवीय चेहरा आया सामने, दर - दर भटक रही वृद्धा को जरुरत का सामान देते हुए सकुशल पहुंचाया वृद्धाश्रम

एक बार फिर कुसमुण्डा पुलिस का मानवीय चेहरा आया सामने, दर - दर भटक रही वृद्धा को जरुरत का सामान देते हुए सकुशल पहुंचाया वृद्धाश्रम


*दीपक शर्मा/कोरबा/पाली:-* आज के आडंबर से भरे भागती दौड़ती जीवनशैली में लोग अक्सर असहायों - जरूरतमंदों को देख अपना मुंह मोड़ लेते है, परन्तु जिन्होंने देश सेवा करने की कसमें खायी है वे अपने कर्तव्य से कभी विमुख नही होते, दिन हो चाहे रात 24 घण्टे बिना थके समाज के हर वर्ग की समस्या को हल करने तत्पर रहतें हैं। हम बात कर रहें है कोरबा जिले की बेहतरीन पुलिसिंग की, जबसे भोजराम पटेल ने कोरबा पुलिस अधीक्षक का दायित्व सम्हाला है जिले की पुलिसिंग में अपने कार्य को लेकर एक अलग सा सेवाभाव, उत्साह व उमंग देखने को मिल रहा है, जिससे न सिर्फ अपराधों पर अंकुश लगाने सफलता मिल रही है बल्कि समाजिक कार्यो में भी जिला पुलिस बढ़ चढ़कर अपना दायित्व निभा रही है। 

इसी कड़ी में जिले के कुसमुण्डा पुलिस के द्वारा एक वृद्ध महिला लक्ष्मीबाई सतनामी निवासी सांकरा जिला धमतरी की अपने घर परिवार नही होने से दर-दर भटक रही थी, जिसकी सूचना कुसमुण्डा थाना प्रभारी लीलाधर को मिली, जिन्होंने त्वरित संवेदनशीलता का परिचय देते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराकर उनके दिशा निर्देशन पर तत्काल वृद्ध बिछड़ी महिला के लिये आवश्यक कपड़े एवं अन्य सामग्री के साथ उन्हे सर्वमंगला स्थित वृद्धाश्रम पहुंचाया गया।

आपको बता दें बीते दिनो भी दक्षिण भारत से भटक कर आयी महिला को कुसमुण्डा पुलिस ने रात्रि में सकुशल  कोरबा और अगले दिन बिलासपुर पंहुचाया था। 

कुसमुण्डा पुलिस अपने थाना क्षेत्र में अपराध व कानून व्यवस्था का कार्य करते हुये अपना सामाजिक सारोकार का दायित्व भी बखूबी निभाते हुए लोगो से भी अपील भी कर रही है कि बिछड़े हुये महिलाओं, बच्चो, वृद्धो व व्यक्तियों के साथ संवेदना रखते हुये उन्हें उनके उचित गंतव्य तक पहुंचाने में मदद करें।