अतरमरा संकुल के गांव गांव में हुवा आमाराइट प्रायोजना का आगाज-संकुल समन्वयक अतरमरा विनोद सिन्हा अपने संकुल में करा रहे है व्यापक तैयारी*

अतरमरा संकुल के गांव गांव में हुवा आमाराइट प्रायोजना का आगाज-संकुल समन्वयक अतरमरा विनोद सिन्हा अपने  संकुल में  करा रहे है व्यापक तैयारी*
*अतरमरा संकुल के गांव गांव में हुवा आमाराइट प्रायोजना का आगाज*

*संकुल समन्वयक अतरमरा विनोद सिन्हा अपने  संकुल में  करा रहे है व्यापक तैयारी*



छुरा ग्रामीण-कोरोना महामारी के कारण वर्तमान में स्कूल बंद है किंतु विभिन्न माध्यमों से छात्र छात्राओं की पढ़ाई लगातार जारी है।ग्रीष्मकाल में बच्चों को सक्रिय रखने हेतु शासन स्तर में ग्रीष्मकालीन प्रायोजना आमाराइट को कक्षावार दिया गया है।जिसे पूरे राज्य स्तर पर लागू किया गया है।इस प्रायोजना कार्य को 30 जून 2021 तक शिक्षकों के ऑनलाइन या ऑफ़लाइन मार्गदर्शन पर विद्यार्थियों द्वारा पूरा किया जाना है।जिला शिक्षाधिकारी भोपाल तांडी,जिला मिशन समन्वयक श्याम चन्द्राकर स्पस्ट निर्देश दिए है कि आमाराइट प्रायोजना को 30 जून तक पूर्ण करना है।इस हेतु सभी संकुल समन्वयकों को निर्देश दिया जा चुका है।इसी तारतम्य में छुरा विकासखण्ड के संकुल केंद्र अतरमरा के सभी शालाओं में आमाराइट प्रायोजना की क्रियान्वयन के लगातार तैयारी किया जा रहा है।संकुल प्रभारी राजेश कंसारी एवं संकुल समन्वयक अतरमरा विनोद सिन्हा ने संकुल केंद्र अतरमरा के सभी प्रधान पाठकों की एक ऑनलाइन ऑफ़लाइन बैठक आयोजन कर निर्देश दिए है साथ ही आमाराइट हर स्तर पर पूर्ण करने का निर्देश दिया गया है। बताया कि यह प्रायोजना को कक्षा दूसरी से कक्षा 12 वी तक कि समस्त शालाओं एवं विद्यार्थियों तक करना है।विद्यार्थी प्रोजेक्ट फाइल तैयार कर बनायेगे।जिसका मूल्यांकन शाला स्तर पर किया जाएगा।जिसमे चार ग्रेड निर्धारित है।जिसे अगले सत्र के मूल्यांकन पर अंकसूची या प्रगति पत्रक में अंकित किया जाएगा।इस योजना की मॉनिटरिंग जिला स्तर से लेकर संकुल स्तर के अधिकारी करेगे।संकुल समन्वयक अतरमरा विनोद सिन्हा ने बताया कि ग्रीष्मकालीन प्रोजेक्ट 'आमाराइट' अपने आसपास के परिवेश से खेल- खेल मनोरंजन तरीके से बच्चों को सक्रिय कर सीखाने का कार्यक्रम है।यह पूर्णतः नवाचार है।आमाराइट छत्तीसगढ़ खेल का अपभ्रंश है।पहले बच्चे चाँद की रोशनी का खेल आंख बंद कर खेलते थे।इस प्रायोजना में माता पिता एवं पालकों की सहभागिता अनिवार्य है।यह एक सकारात्मक सोच के साथ कार्य करने की योजना है।इस योजना में श्रेष्ठ कार्य करने वाले विद्यार्थी ,शिक्षक एवं अधिकारियों को पुरस्कृत करने का भी प्रावधान है।इस योजना में कक्षा के अनुरूप प्रश्नों को तैयार किया गया है या शिक्षक अलग प्रश्नों को तैयार कर दिया जा सकता है।
   इस आमाराइट प्रायोजना का सफल क्रियान्वयन के लिए संकुल केंद्र अतरमरा के सभी स्कुलो में व्यापक तैयारी किया जा रहा है।जिसकी सतत निगरानी संकुल प्रभारी प्राचार्य राजेश कंसारी एवं संकुल समन्वयक अतरमरा विनोद सिन्हा कर रहे है।
      ऑनलाइन ऑफ़लाइन बैठक में प्रमुख रूप से संकुल प्रभारी राजेश कंसारी,संकुल समन्वयक विनोद सिन्हा, खेमलाल यादव,चिरंजीव साहू,चेतन ध्रुव,कृष्णकुमार साहू,रेणुका देवांगन,पवनु ध्रुव,मीना ध्रुव,भानुप्रताप ध्रुव,पूनमसिंह ध्रुव,आनन्द चक्रधारी,सफाई कर्मचारी दुर्गेश निर्मलकर,सहित संकुल के सभी प्रधान पाठक गण शामिल थे।