पशु पालन से स्वरोजगार के बेहतर अवसर

पशु पालन से स्वरोजगार के बेहतर अवसर

पशु पालन से स्वरोजगार के बेहतर अवसर



पाली में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन


दीपक शर्मा/पाली:-शासकीय नवीन महाविद्यालय पाली जिला कोरबा नैक एवं आंतरिक गुणवत्ता आवासन प्रकोष्ठ के तत्वाधान में पशुपालन पालन के क्षेत्र में  स्वरोजगार के अवसर पर विषय पर एक दिवसीय व्यख्यान का आयोजन गोंडवाना सामुदायिक भवन पाली में किया गया।

इसमें मुख्य वक्ता के रूप में पाली  क्षेत्र के उद्ममी और सामाजिक कार्यकर्ता जय कुमार ने उद्बोधन में कहा कि कृषि में पशुपालन के महत्व पर प्रकाश डालते हुए पशु शक्ति ,जीवांश खाद की उपलब्धता ,अनुपयोगी कृषि पदार्थो का सदुपयोग,इंधन की प्राप्ति,यातायात का साधन,भोजन की उपलब्धता ,समय और श्रम का सदुपयोग,जीवन स्तर में सुधार और विदेशी मुद्रा की प्राप्ति के साथ साथ कार्यक्रम में विषयपरक महत्वपूर्ण जानकारियां श्रोताओ को उपलब्ध कराई गई। राज्य शासन द्वारा नरवा गरवा घुरवा बाड़ी जैसी महत्वाकांक्षी योजना के मद्देनजर पशुपालन का महत्व और अधिक बढ़ गया है और वर्तमान परिवेश में आयुर्वेद चिकित्सा के साथ-साथ पशुधन उत्पादों का उपयोग मे लाने से यह प्रासंगिक भी हो गया है। राज्य सरकार इसके लिए प्रोत्साहन देते हुए विभिन्न अवसर उपलब्ध करा रहा है।

इस कार्यक्रम में पाली नवीन  महाविद्यालय के प्राचार्य  डा श्री पुष्पराज लाजरस, नैक प्रभारी शेख तस्लीम अहमद,आई क्यू एसी प्रभारी, के सी गेंदले,महाविद्यालय के प्राध्यापक गण व छात्र छात्राएं बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।कार्यक्रम के उपरांत प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया गया। जिसमे छात्र छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।इसके बाद छात्र छात्राओं के उत्साह वर्धन के लिए पुरुस्कार भी प्रदान किया गया।