नगर पालिका अध्यक्ष ने किया महिला स्व सहायता समुह के हाट बाजार का उद्घाटन

नगर पालिका अध्यक्ष ने किया महिला स्व सहायता समुह के हाट बाजार का उद्घाटन

नगर पालिका अध्यक्ष ने किया महिला स्व सहायता समुह के हाट बाजार का उद्घाटन


गरियाबंद - गुरूवार को नगर पालिका अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार मेमन ने दीनदयाल अन्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिषन अंतर्गत सिटी मिषन प्रबंधन ईकाई नगर पालिका परिषद गरियाबंद अंतर्गत गठित महिला स्व सहायता संचालित हाट बाजार का फीता काटकर उद्घाटन किया। इस दौरान नगर पालिका की सीएमओ संध्या वर्मा, उपाध्यक्ष सुरेन्द्र सोनटेके भी मौजुद थे।

इस अवसर पर नगर पालिका अध्यक्ष गफ्फु मेमन ने कहा कि हाट बाजार खुलने से स्व सहायता समुह की महिलाओ को अपने सामाग्री बेचने के लिए बेहतर प्लेटफार्म उपलब्ध होगा। निश्चित स्थान के अभाव में लोगो को समुह द्वारा निर्मित वस्तुओ की जानकारी नही मिल पाती थी, वही समुह को भी स्वंय द्वारा निर्मित सामग्री के विक्रय के हेतु प्रचार प्रसार के लिए काफी मेहतन करनी पड़ती थी। अब हाट बाजार खुलने से समुह की महिलाओ को राहत भी मिलेगी और अपनी सामाग्री भी आसानी से बाजार में बेच सकेंगी। इससे आम नागरिको भी अपने पंसद की जरूरी सामाग्री उचित कीमत पर खरीद सकंेगे।

इस अवसर पर नपा अध्यक्ष मेमन ने स्व सहायता समुह द्वारा बनाए गए वस्तुओ एवं खाद्य सामाग्री का निरीक्षण कर खरीदी भी की। नगर पालिका अध्यक्ष ने नगरवासियो से भी हाट बाजार से खरीदी करने की अपील की। इस अवसर पर सभापति आसिफ मेमन, वंश गोपाल सिन्हा, गुलेश्वरी ठाकुर, प्रहलाद ठाकुर, पार्षद संदीप सरकार, प्रतिभा पटेल, ज्योति साहनी, इंजी अश्वनी वर्मा, हरीश मांझी, लेखापाल पुर्षोत्तम चंद्राकर, मंजुला मिश्रा, मिशन प्रबंधक राजेश्वर रहंगडले सहित अन्य कर्मचारी उपस्थित थे।

मिशन प्रबंधक राजेश्वर रहंडडले ने बताया कि दीनदयाल अन्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिषन अंतर्गत गठित महिला स्व सहायता समूहों द्वारा लघु उद्योग जैसे घरेलु स्तर पर ग्रह सजावटी आईटम, डोरमेट, मास्क, धूप बत्ती, दिया बत्ती, गोबर से बने दीपक एवं अन्य सामान, श्रृंगार सामग्री, गीला ध्रुप, मिट्टी के बर्तन, छत्तीसगढ़ व्यंजन, बेग, मुरकू, पापड़ बड़ी, अचार, नमकीन, केक, हरदी, मिर्च व धनिया मसाला, करवा चैथ की थाल व सजावह तथा फीनाइल, पर्स, सहित कई प्रकार के वस्तुओ और खाद्य सामाग्री का निर्माण किया जा रहा है। जिसे समुह की महिलाओ द्वारा घर घर बेचा जाता है। इनको बाजार में उपलब्ध कराने और समुह को पहचान दिलाने के उद्देश्य से महिला समुह हाट बाजार की कमी महसुस की जा रही थी। इसके पूरा होने से अब महिला और अधिक उत्साह के साथ काम कर सकेगी।