बेटी दिवस के अवसर पर महार समाज ने किया पीएससी में सफलता हासिल करने वाली बेटी दिव्या वैद्य का सम्मान

बेटी दिवस के अवसर पर महार समाज ने किया पीएससी में सफलता हासिल करने वाली बेटी दिव्या वैद्य का सम्मान

बेटी दिवस के अवसर पर महार समाज ने किया पीएससी में सफलता हासिल करने वाली बेटी दिव्या वैद्य का सम्मान

आरक्षण नही, मेहनत ही सफ़लता की असली कुंजी होती है - दिव्या


गरियाबंद - रविवार को बेटी दिवस के अवसर पर महार समाज ने सीजी पीएससी परीक्षा में सफलता हासिल करने वाली समाज की होनहार छात्रा दिव्या वैद्य का साल श्रीफल भेंट कर गरियामयी सम्मान किया। नगर के अंबेडकर भवन में आयोजित सम्मान समारोह में महार समाज ने दिव्या को मिली सफलता के लिए उन्हे बधाई और शुभकामना दी। इस दौरान उनके माता पिता कल्पना वैद्य व राजेश वैद्य का भी सम्मान किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता समाज के अध्यक्ष पुन्नुलाल कुटारे ने की। विशेष अतिथि नगर पालिका उपाध्यक्ष सुरेंद्र सोनटेके तथा गोविंद उइके थे। इसके पूर्व कार्यकम में पहुॅचते ही दिव्या एवं उनके माता पिता का पुष्पमाला से जोशीला स्वागत भी किया गया।

 

ज्ञात हो कि हाल में ही जारी सीजी पीएससी 2019 के परीक्षा के परिणाम में नगर की दिव्या वैद्य ने 251 रैंक हासिल की। उन्हे भू-अभिलेख शाखा में सहायक अधीक्षक के पद पर नियुक्ति मिलेगी। दिव्या के चयन होने पर नगर और समाज में हर्ष व्याप्त है। रविवार को महार समाज ने उनका सम्मान किया। इस अवसर पर सम्मान समारोह में दिव्या वैद्य ने अपने सफलता का श्रेय अपने माता पिता और गुरूजनो को देते हुए उनका आभार जताया है। दिव्या ने कहा कि माता पिता ने हर कदम में उनका साथ दिया, आगे बढने प्रोत्साहित किया, गुरूजनो से बेहतर मार्गदर्शन मिला। यही कारण है कि वह आज इस मुकाम तक पहुच सकी। दिव्या ने कहा कि समाज से मिले सम्मान से उनका आत्मविश्वास बढ़ा है। वह अभी रूकेगी नही और आगे बढ़ेगी। उन्होने कहा कि आपके बच्चे का जिस फिल्ड में मन लगता उसे उस फिल्ड में आगे बढ़ाए वे निश्चित सफल होंगे। एक सवाल के जबाव में दिव्या ने कहा कि आरक्षण का आधार गरीबी होना चाहिए। हालाकि आगे बढ़ने के लिए आरक्षण से ज्यादा मेहतन जरूरी है।  


समारोह में नगर पालिका उपाध्यक्ष सुरेंद्र सोनटेके ने कहा कि दिव्या शुरू से ही मेहनती और बहुप्रतिभाशाली रही। खेल के क्षेत्र मे भी उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। आज कड़ी मेहनत से पीएससी की कठिन परीक्षा में सफलता हासिल की हैं जो समाज के अन्य बच्चो के लिए प्रेरणादायक है। उन्होने दिव्या से कहा कि वे समाज के बच्चो को सफल होने के लिए मार्गदर्शन दे। समाज के लोगो से भी अपील कि वे बच्चो के पढ़ाई में ध्यान दे और आगे बढ़ने प्रेरित करे। समाज के सुजीत कुटारे ने कहा कि दिव्या ने अपने मेहनत से समाज और अपने माता पिता का नाम रोशन किया है। गोविंद उइके ने कहा कि दिव्या ने समाज का मान बढ़ाया है उन्हे एक जिम्मेदार पद मिला है। निखिल सुस्माकर ने कहा कि दिव्या आज समाज के अन्य युवतियों के लिए वह प्रेरणादायी बनी है। समाज अध्यक्ष पुन्नुलाल कुटारे ने ऐसे कार्यकम से प्रतिभावान छात्रों का हौसला बढ़ता है। कार्यक्रम का संचालन ने किया।

 

इस अवसर प्रमुख रूप से श्रीममि कमला कुटारे, भगवंत कुटारे, संजीव सोनटेके, नंदकुमार रामटेके, मुकुंद कुटारे, बलवंत सुखदेवे, जितेश सुखदेवे, नागेश गजभिए, राजेन्द्र कुटारे, गिरधर गजभिए, गोरेलाल, चंद्रिका गणवीर, देवकी मेश्राम, अंजली लोन्हारे, हंशा कुटारे, मेघा सुखदेवे, अंजु कुटारे, जमुना गजभिए, पुर्णिमा गणवीर, प्रीती गणवीर, उमा कुटारे, आशा गजभिए, कोमल सुस्माकर, उर्मिला गजभिए, प्रतिभा सुखदेवे, सरिता उईके, जय कुटारे सहित बड़ी संख्या में समाज के लोग उपस्थित थे।