दिग्गज समाजसेवी रूपसिंग साहू ने शासन प्रशासन एवं प्रदेश सरकार से पत्र व्यवहार कर यह मांग रखी

दिग्गज समाजसेवी रूपसिंग  साहू ने शासन प्रशासन एवं प्रदेश सरकार से पत्र व्यवहार कर यह मांग रखी

दिग्गज समाजसेवी रूपसिंग  साहू ने शासन प्रशासन एवं प्रदेश सरकार से पत्र व्यवहार कर यह मांग रखी



गरियाबंद-जिला गरियाबंद में एवं अन्य जिला व छत्तीसगढ़ प्रदेश में अनियंत्रित होते कोरोना पर नियंत्रण को लेकर रूपसिंग साहू सामाजिक कार्यकर्ता एवं कार्यकारी अध्यक्ष छत्तीसगढ़ प्रदेश साहू संघ युवा प्रकोष्ठ रायपुर संभाग ने टी एस सिंह देव जी स्वास्थ्य मंत्री एवं रेणु पिल्ले अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य सेवाएं एवं परिवार कल्याण विभाग छत्तीसगढ़ शासन महानदी भवन मंत्रालय अटल नगर नया रायपुर से मुलाकात कर एवं लिखित पत्र क्रमांक 205/206 दिनांक 9/04/21 के माध्यम से अवगत कराते हुए आग्रह किया कि गरियाबंद जिले जैसे छत्तीसगढ़ प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता व्यक्त की और आवश्यक पहल एवं कार्यवाही के लिए कई सुझाव पत्र के माध्यम से कहा कि पूरे प्रदेश में कोरोना पर अंकुश लगाने को लेकर जो तैयारी पूर्व में होनी थी वह कहीं नहीं दिख रहा है जिसके कारण स्थिति भयानक चिंताजनक बनी हुई है अस्पतालों में बिस्तर की समस्या वेंटिलेटर और ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी की पूर्ति तत्काल की जाना चाहिए ज्यादा उचित होगा श्री साहू ने कहा कि सरकारी और निजी भवनों में आवश्यकता अनुसार अस्थाई अस्पताल बनाया जाए एवं हर जिले व विकासखंड स्तर पर अस्पताल बनाया जाए जिसके साथ ही बाजार में दवाई महंगी दर पर बेचे जाने की शिकायत आम नागरिक एवं कोरोना बीमारी से पीड़ित मरीजों के परिजनों से लगातार शिकायतें मिल रहा है प्रदेश में कोरौना उपचार के नाम पर निजी अस्पतालों में अतिरिक्त राशि ली जा रही है इसकी एक निर्धारित दर व रेट तय किए जाने की निवेदन किया निजी अस्पतालों में नियंत्रण के लिए जल्दी ही छत्तीसगढ़ प्रदेश में एक कमेटी बनाने की जरूरत बताया स्वास्थ्य मंत्री एवं अपर मुख्य सचिव ने इस मामले को संज्ञान में लेते हुए जल्द ही ठोस कार्यवाही करने का भरोसा दिलाया अगर छत्तीसगढ़ सरकार एवं शासन-प्रशासन आयुष्मान भारत योजना में अड़ंगा नहीं डालती तो आज प्रदेश का हर गरीब परिवार कोरोना के निशुल्क ईलाज से लाभान्वित होता जहां एक और स्वास्थ्य योजना को बंद करने की बात करते रहे हैं वही विपरीत परिस्थितियों में आयुष्मान भारत योजना की जनकल्याण में प्रासंगिकता सिद्ध हो रही है केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व वाली सरकार और प्रदेश की पूर्व वर्ती सरकार ने देश प्रदेश के लोगों को निशुल्क चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई थी जिस पर बिना सोचे समझे प्रदेश में सत्ता हासिल होते ही वर्तमान सरकार ने बंद कर दिया और उन्हें अधर में लटका दिया जिसके कारण प्रदेश के जरूरतमंद लोगों इस सुविधा से वंचित होकर ईलाज के लिए दर-दर भटक रहे हैं एवं परेशान हो रहे हैं वर्तमान में पूर्व सरकार की योजना को बंद कर वर्तमान सरकार ने यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम और डॉक्टर खूबचंद बघेल योजना का चला रहे हैं लेकिन पर्याप्त आज भी लोगों को उस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है कई ऐसे बीमारियों का नाम है जो सूची से हटा दिया गया है जैसे बच्चेदानी, हाइड्रोसील,अपेंडिक्स,पाइल्स जैसे गंभीर बीमारियों को अलग हो जाने से लोग दर-दर भटक रहे हैं पूर्वा सरकार की महती योजना को जल्द ही चालू कर देना चाहिए क्योंकि सरकार की सभी सरकारी अस्पतालों में बिस्तर ऑक्सीजन सिलेंडर वेंटीलेटर स्टॉप कमी को देखते हुए मरीजों को भारती लेने से साफ-साफ इंकार कर रहे हैं सभी मरीज लगभग प्राइवेट अस्पताल की ओर बढ़ रहे हैं आज प्रदेश में ऐसे बहुत ही चिंता व चिंतन का विषय बना हुआ है ईलाज पर्याप्त सुविधा नहीं मिल पाने के कारण हर रोज आंकड़ा के अनुसार लगातार मौतें बढ़ रही हैं।



छत्तीसगढ़ प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हाल बना हुआ है प्रदेश की राजधानी रायपुर स्थित लगभग सभी निजी एवं सरकार की अस्पताल हाउसफुल है अस्पतालों में गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति के इलाज के लिए कोई भी बेड उपलब्ध नहीं है जिसके कारण बीमार व्यक्ति के साथ उनके परिजनों एवं परिचितों को विकराल समस्याओं से जूझना पड़ रहा है श्री साहू ने कहा अस्पतालों में पहले ही बेड उपलब्ध नहीं होने का हवाला देकर रोगियों को वापस किए जा रहे हैं वही कोरोनर्स आज की रिपोर्ट भी 4 से 5 दिन बाद मिलती है जिसके कारण से भी बीमार व्यक्ति का उचित इलाज रिपोर्ट के अभाव में नहीं हो पाता और समय पर तत्काल इलाज नहीं मिलने से भी कोरोना मरीज के परिजनों को व्यापक परेशानियों का सामना करना पड़ता है श्री साहू ने शासन प्रशासन एवं प्रदेश सरकार से मांग की है कि इस समस्या के निराकरण में त्वरित कार्यवाही करें तथा सभी अस्पतालों में मरीजों के लिए अतिरिक्त बेड की व्यवस्था कराई जाने की मदद एवं गुहार लगाई है