सड़कों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश

सड़कों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश

जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक



सड़कों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश


उत्तर बस्तर कांकेर - लोकसभा क्षेत्र कांकेर के सांसद श्री मोहन मण्डावी की अध्यक्षता में आज जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक जिला पंचायत के सभाकक्ष में आयोजित की गई, जिसमें जिले में संचालित केन्द्रीय एवं राज्य सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन में प्रगति की एजेंण्डावार समीक्षा की गई। अंतागढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री अनुप नाग, जिला पंचायत के अध्यक्ष हेमन्त ध्रुव, कलेक्टर श्री के.एल. चौहान, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. संजय कन्नौजे, वनमण्डाधिकारी अरविंद पी.एम, विधायक प्रतिनिधि सुनील गोस्वामी की उपस्थित में आयोजित इस बैठक में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क एवं लोक निर्माण विभाग द्वारा किये जा रहे सड़कों के निर्माण और नवीनीकरण कार्यों में सड़क की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने तथा मरम्मत योग्य सड़कों की सूची उपलब्ध कराने के लिए संबंधित निर्माण विभाग के कार्यपालन अभियंता को निर्देशित किया गया।

जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक में महात्मागांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क, राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम, स्वच्छ भारत मिशन, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, समेकित बाल विकास परियोजना, मध्यान्ह भोजन, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना सहित सांसद स्थानीय विकास योजना अंतर्गत संचालित कार्यों में प्रगति की समीक्षा किया गया, जिसमें बताया गया कि महात्मागांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना अंतर्गत कांकेर जिले में मजदूरी भुगतान लंबित नहीं है। प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए भी राशि जारी कर दिया गया है। जिले में इस वर्ष 30 लाख 88 हजार मानव दिवस रोजगार का श्रृजन किया गया। जिले में निर्मित सभी 197 गौठानों में गोधन न्याय योजना अंतर्गत गोबर खरीदी की जा रही है। कृषि विभाग की समीक्षा के दौरान बताया गया कि जिले में 01 लाख 93 हजार 986 हेक्टेयर क्षेत्र में फसल बोया गया है, जो कुल रकबा का 80 प्रतिशत होता है। किसानों को 38 हजार 328 क्विंटल धान बीज और 23031 मैट्रिक टन खाद का वितरण किया गया है, 50 हजार 491 किसानों द्वारा फसल बीमा कराया गया है, जिसका बैंको के द्वारा 31जुलाई तक ऑनलाईन एंट्री किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान बताया गया कि मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के अंतर्गत कांकेर जिले में भी मलेरिया प्रभावित व्यक्तियों की पहचान एवं उपचार किया जा रहा है, अब तक 04 हजार 457 व्यक्ति मलेरिया पॉजिटिव पाया गया है, जिनका उपचार किया गया है। जिले में 08 हजार व्यक्तियों का नोवल कोरोना वायरस सेम्पल लिया गया था, जिसमें से 216 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाये गये, इनमें से 134 व्यक्ति अर्द्धसैनिक बलों के जवान है। जिले के सभी सात विकासखण्डों के लिए मेडिकल यूनिट वाहन की खरीदी की जा रही है। जल संसाधन विभाग द्वारा संचालित कार्यों की समीक्षा करते हुए सेंदारनाला व्यपवर्तन के नहर निर्माण में गुणवत्ता का पालन करने के लिए निर्देशित किया गया।

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा ’’पढ़ई तुहर द्वार’’, मध्यन्ह भोजन का सूखा राशन वितरण तथा महिला बाल विकास विभाग द्वारा संचालित पूरक पोषण आहार, प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना, खाद विभाग द्वारा नया राशन कार्ड बनाने का कार्य,  राष्ट्रीय राजमार्ग द्वारा कांकेर से बेड़मा तक सड़क निर्माण कार्य एवं बाईपास निर्माण की भी समीक्षा किया गया। विद्युत विभाग की समीक्षा के दौरान विशेष रूप से निर्देशित किया गया कि वर्षा की कमी को देखते हुए किसानों द्वारा सिंचाई पंप का उपयोग किया जा रहा है, इसलिए विद्युत अवरोध न किया जाये।

बैठक में जनपद अध्यक्ष भानुप्रतापपुर, श्रीमती बृजबत्ती मरकाम, जनपद अध्यक्ष दूर्गूकांदल सातोबाई दुग्गा, जनपद अध्यक्ष कोयलीबेड़ा देवली नुरूटी, जनपद अध्यक्ष कांकेर रामचरण कोर्राम, जनपद अध्यक्ष चारामा अरूण मरकाम, जनपद अध्यक्ष नरहरपुर संजुलता तुलसीराम नेताम और जनपद अध्यक्ष अंतागढ़ बन्द्रीनाथ गावडे़ तथा दिशा समिति के सदस्य धीरज नेताम, अनीता रावटे, सुरेखा नेताम, विद्यासागर ध्रुव, कमलेश उसेण्डी, पंचुराम नायक, देवसिंह सहारे और सुकदेव सलाम सहित विभिन्न विभागों के जिला प्रमुख अधिकारी उपस्थि थे।