जिले के उपार्जन केंद्रो में 38 हजार 92 क्विंटल धान की हुई खरीदी

जिले के उपार्जन केंद्रो में 38 हजार 92 क्विंटल धान की हुई खरीदी

जिले के उपार्जन केंद्रो में 38 हजार 92 क्विंटल धान की हुई खरीदी 

नारायणपुर  - वर्तमान में खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में नारायणपुर जिले के  उपार्जन केन्द्रों एड़का, छोटेडोंगर, नारायणपुर, बिजली, झारा, धौड़ाई, बाकुलवाही, बेनुर और ओरछा में बीते 16 दिसंबर तक कुुल 38 हजार 92 क्विंटल खरीदी गई है। जिला विपणन अधिकारी से मिली जानकारी अनुसार जिले में सबसे अधिक धान उपार्जन केन्द्र एड़का में 7 हजार 728 क्विंटल धान की ख़रीदी की गई। इसके साथ ही छोटेडोंगर में 1 हजार 878 क्विंटल, धौड़ाई में 2 हजार 806 क्विंटल, झारा में 2 हजार 896 क्विंटल, बेनुर में 7 हजार 78 क्विंटल, बाकुलवाही में 6 हजार 323 क्विंटल, नारायणपुर में 5 हजार 253 क्विंटल, बिंजली में 3 हजार 876 क्विंटल और ओरछा धान खरीदी केन्द्र में 251 क्विंटल धान की खरीदी की गयी है। कलेक्टर श्री अभिजित सिंह ने खरीदी के लिए सभी जरूरी इंतजाम करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा है कि किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए। खरीदी केन्द्रों में पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध रहना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने उपार्जन केन्द्रों के लिए नियुक्त किये गये नोडल अधिकारियों को सतत मॉनिटरिंग करने के भी निर्देश दिये हैं। के उपार्जन केंद्रो में 38 हजार 92 क्विंटल धान की हुई खरीदी 

नारायणपुर 17 दिसम्बर 2020 - वर्तमान में खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में नारायणपुर जिले के  उपार्जन केन्द्रों एड़का, छोटेडोंगर, नारायणपुर, बिजली, झारा, धौड़ाई, बाकुलवाही, बेनुर और ओरछा में बीते 16 दिसंबर तक कुुल 38 हजार 92 क्विंटल खरीदी गई है। जिला विपणन अधिकारी से मिली जानकारी अनुसार जिले में सबसे अधिक धान उपार्जन केन्द्र एड़का में 7 हजार 728 क्विंटल धान की ख़रीदी की गई। इसके साथ ही छोटेडोंगर में 1 हजार 878 क्विंटल, धौड़ाई में 2 हजार 806 क्विंटल, झारा में 2 हजार 896 क्विंटल, बेनुर में 7 हजार 78 क्विंटल, बाकुलवाही में 6 हजार 323 क्विंटल, नारायणपुर में 5 हजार 253 क्विंटल, बिंजली में 3 हजार 876 क्विंटल और ओरछा धान खरीदी केन्द्र में 251 क्विंटल धान की खरीदी की गयी है। कलेक्टर श्री अभिजित सिंह ने खरीदी के लिए सभी जरूरी इंतजाम करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा है कि किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए। खरीदी केन्द्रों में पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध रहना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने उपार्जन केन्द्रों के लिए नियुक्त किये गये नोडल अधिकारियों को सतत मॉनिटरिंग करने के भी निर्देश दिये हैं।