राजपुर जिला बनाओ संघर्ष समिति का मुहिम हुआ तेज कार्यक्रम में कई हजार आदमी हुए शामिल

राजपुर जिला बनाओ संघर्ष समिति का मुहिम हुआ तेज कार्यक्रम में कई हजार आदमी हुए शामिल

राजपुर जिला बनाओ संघर्ष समिति का मुहिम हुआ तेज कार्यक्रम में कई हजार आदमी हुए शामिल 



रोहित यादव/बलरामपुर :_जिले के राजपुर ब्लॉक को जिला बनाओ संघर्ष समिति के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम और आम सभा का आयोजन किया गया था समाजसेवी अशोक अग्रवाल के नेतृत्व में हाई स्कूल ग्राउंड महुआ पारा राजपुर में हजारों की भीड़ एकत्रित हुई अशोक अग्रवाल के नेतृत्व में आम सभा का भी आयोजन किया गया अशोक अग्रवाल ने कहा कि राजपुर भौगोलिक दृष्टि से सामरी विधानसभा क्षेत्र मे जिला सहित मुख्यालय बनाने लायक है, और उचित भी है और हम जब तक संघर्ष करते रहेंगे तब तक की राजपुर जिला नहीं बन जाता और वही सामरी के पूर्व बिधायक एवं संसदीय सचिव सिद्धनाथ पैकरा ने भि राजपुर जिला बनाओ संघर्ष समिति व आम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि राजपुर का समर्थन करते हुए कहा कि हमारा पुरा समर्थन है कि सामरी विधानसभा में जिला बने और ताकि क्षेत्र का भरपूर विकास हो सके और ये बहुत जरूरी है, उन्होंने कहा कि राजपुर में सन 2013 में कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष स्वर्गीय नंदकुमार पटेल ने कहा था कि अगर हमारी सरकार बनती है तो हम सबसे पहले राजपुर को जिला बनाएंगे और शायद आज हमारे बीच रहते तो जिला बन भी जाता लेकिन वर्तमान में कांग्रेस का सत्ता है तो हो सकता है पुर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के सपना को पुरा करें और उन्होंने जो सपना देखा था वो पुरा होना भी चाहिए ताकि क्षेत्र का समुचित विकास हो सके बलरामपुर के पूर्व भाजपा जिला अध्यक्ष शिवनाथ यादव ने भी अपना समर्थन दिया आपको अवगत करा दे राजपुर को जिला बनाने के लिए कांग्रेस, भाजपा ,शिवसेना , सहित अन्य पार्टीयां भी समर्थन करते नजर आ रहे है, और सर्वदलीय भावना के मद्देनजर कार्य किया जा रहा है और राज्य शासन को भी सोचना चाहिए कि पक्ष विपक्ष सब एक मंच पे आ चुके हैं तो कार्य को राजपुर को जिला बना देना चाहिए वहीं पूर्व विधायक सिद्धनाथ पैकरा का जन्मदिन भी उसी दिन सबों के विच जन्म दिन मनाया गया इस अवसर पर राजपुर शंकरगढ कुसमी के क्षेत्र वाशि भारी संख्या में उपस्थित थे और राजपुर को जिला बनाने के लिए लामबंद नजर आए क्षेत्र वासियों ने एक साथ हुंकार भरी कि जिला हर हाल में बनना ही चाहिए ताकि क्षेत्र का समुचित विकास हो सके।